NDTV Khabar

अब टिकटों के लिए नहीं होगी मारामारी? अक्टूबर से ट्रेनों में बढ़ जाएंगी 4 लाख आरक्षित सीटें! जानिये क्या है रेलवे की योजना

यात्रियों के लिए आने वाले समय में रेल का आरक्षित टिकट आसानी से उपलब्ध हो सकता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब टिकटों के लिए नहीं होगी मारामारी? अक्टूबर से ट्रेनों में बढ़ जाएंगी 4 लाख आरक्षित सीटें! जानिये क्या है रेलवे की योजना

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. रेलवे की योजना से चार लाख सीटों की होगी बढ़ोतरी
  2. अक्टूबर महीने से रेलवे अपनाएगा नई तकनीक
  3. रेल टिकटों की मारामारी से मिल जाएगा निजात!
नई दिल्ली :

आने वाले समय में रेल का आरक्षित टिकट यात्रियों को आसानी से उपलब्ध हो सकता है. रेलवे ऐसे उपाय करने जा रही है, जिससे अक्टूबर से गाड़ियों में आरक्षित यात्रा के लिए रोजाना चार लाख से अधिक सीटें (बर्थ) बढ़ेंगी. इसके लिए रेल विभाग ऐसी प्रौद्योगिकी अपनाने जा रहा है, जिससे डिब्बों में रोशनी और एयर कंडीशनिंग के लिए बिजली को लेकर अलग से पावर कार (जनरेटर डिब्बा) लगाने की जरूरत नहीं होगी. यह जरूरत इंजन के माध्यम से ही पूरी हो जाएगी. रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी.

यह भी पढ़ें: कल से IRCTC यात्रियों के लिए बंद कर देगा ये 'मुफ्त सेवा', दिसंबर 2017 में हुई थी शुरुआत

फिलहाल लिंक हाफमैन बुश (एलएचबी) डिब्बों वाली प्रत्येक रेलगाड़ी में एक से दो जनरेटर बोगी लगी होती है. इन्हीं डीजल जनरेटर बोगियों से सभी डिब्बों को बिजली की आपूर्ति की जाती है. इसे 'एंड ऑन जनरेशन' (ईओजी) प्रौद्योगिकी के तौर पर जाना जाता है. अधिकारियों ने कहा कि जल्द ही विभाग दुनिया भर में प्रचलित 'हेड ऑन जेनरेशन' (एचओजी) प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल शुरू करने जा रहा है. इस प्रौद्योगिकी में रेलगाड़ी के ऊपर से जाने वाली बिजली तारों से ही डिब्बों के लिए भी बिजली ली जाती है.


यह भी पढ़ें: रेल मंत्री पीयूष गोयल को भी नहीं मिला टिकट, एयरपोर्ट पर बैठे रहे 12 घंटे, हादसे के 2 दिन बाद लौटे स्वदेश

अधिकारियों ने बताया कि अक्टूबर 2019 से भारतीय रेल के करीब 5,000 डिब्बे एचओजी प्रौद्योगिकी से परिचालित होने लगेंगे. इससे ट्रेनों से जनरेटर बोगियों को हटाने में मदद मिलेगी और उनमें अतिरिक्त डिब्बे लगाने की सहूलियत भी मिलेगी. इतना ही नहीं इससे रेलवे की ईंधन पर सालाना 6,000 करोड़ रुपये से अधिक की बचत होगी. सिर्फ एक गैर-वातानुकूलित डिब्बे को बिजली आपूर्ति करने के लिए प्रति घंटा 120 यूनिट बिजली की जरूरत होती है. इतनी बिजली पैदा करने के लिए जनरेटर प्रति घंटा 40 लीटर डीजल की खपत करता है. वहीं वातानुकूलित डिब्बे के लिए ईंधन का यही खपत बढ़कर 65 से 70 लीटर डीजल प्रति घंटा हो जाती है.

यह भी पढ़ें: रेल टिकट कराया था कैंसल, IRCTC ने दो साल बाद लौटाए 33 रुपये

अधिकारियों ने बताया कि नई प्रणाली पर्यावरण अनुकूल है. इसमें वायु और ध्वनि प्रदूषण नहीं होगा. साथ ही यह प्रत्येक रेलगाड़ी के हिसाब से कार्बन उत्सर्जन में 700 टन वार्षिक की कमी लाएगी. अधिकारियों के अनुसार, 'उदाहरण के तौर पर प्रत्येक शताब्दी एक्सप्रेस में दो जनरेटर बोगियां लगायी जाती हैं. जब हम एचओजी प्रणाली को इस्तेमाल करना शुरू कर देंगे तो ऐसी ट्रेनों में स्टैंडबाय के लिए मात्र एक जनरेटर बोगी की जरूरत होगी.' अधिकारियों ने बताया कि उनके अनुमान के मुताबिक जब एलएचबी डिब्बों वाली सभी रेलगाड़ियां नयी प्रौद्योगिकी से चलने लगेंगी तो अतिरिक्त डिब्बों से हर दिन करीब चार लाख शायिकाएं उपलब्ध होंगी. इससे रेलवे की आय भी बढ़ेगी.

टिप्पणियां

VIDEO: टिकट के दलालों पर RPF का शिकंजा

(इनपुट: भाषा) 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement