NDTV Khabar

मरम्मत की जरूरत वाले सभी रेल पुलों की समीक्षा करेगा रेलवे

बोर्ड के आदेश में कहा गया, 'सीबीई (मुख्य पुल इंजीनियर) को अपने संबंधित रेलवे में खासकर ओआरएन-1 और ओआरएन-2 रेटिंग निर्दिष्ट सभी पुलों के संबंध में स्थिति की समीक्षा करनी चाहिए.

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मरम्मत की जरूरत वाले सभी रेल पुलों की समीक्षा करेगा रेलवे

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली: रेलवे बोर्ड ने देश में मरम्मत की जरूरत वाले सभी रेल पुलों की समीक्षा का आदेश दिया है. बोर्ड ने पाया है कि इस तरह के 275 पुलों में केवल 23 में ही गति पाबंदी है. बोर्ड ने इससे पहले पुलों की स्थिति के बारे में विवरण मांगा था. 

यह भी पढ़ें : रेल दुर्घटनाओं पर रोक के लिए सरकार ने उठाया यह बड़ा कदम

बोर्ड के आदेश में कहा गया, 'सीबीई (मुख्य पुल इंजीनियर) को अपने संबंधित रेलवे में खासकर ओआरएन-1 और ओआरएन-2 रेटिंग निर्दिष्ट सभी पुलों के संबंध में स्थिति की समीक्षा करनी चाहिए. साथ ही प्राथमिकता के आधार पर कार्ययोजना के लिए तैयार होना चाहिए. रेलवे अपने पुलों की तीन रेटिंग संपूर्ण रेटिंग नंबर (ओआरएन), 1,2,3 करता है. इसमें ओआरएन-1 रेटिंग पुलों में तुरंत निर्माण या उसके बदले में पुल की मांग का संकेतक है.

यह भी पढ़ें : मुंबई भगदड़ : ट्रेनों में लगेंगे सीसीटीवी, सभी स्टेशनों पर FOB होगा जरूरी

ओआरएन-2 रेटिंग के तहत कार्यक्रम आधार पर पुनर्निर्माण होना चाहिए, जबकि ओआरएन-3 पुलों को खास मरम्मत की जरूरत होती है. बोर्ड के पिछले महीने के आदेश में कहा गया, ऐसा प्रतीत होता है कि रेलवे ने इन पुलों के पुनरुद्धार के लिए समुचित समयबद्ध योजना नहीं तैयार की है. इससे संदेह पैदा होता है कि क्या सही स्थिति रेटिंग पुलों की असल स्थिति के लिए उपयुक्त है या नहीं.

VIDEO: सभी रेलवे पुलों की सुरक्षा की समीक्षा के आदेश
रेलवे बोर्ड ने पुलों का विवरण मांगा है और कहा है कि कुछ जोनल रेलवे में लंबे समय समय से बड़ी संख्या में मौजूदा पुलों के पुनरुद्धार की जरूरत है. मध्य रेल में इस तरह के 61 पुल, पूर्वमध्य रेल में 63, दक्षिण मध्य रेल में 41 और पश्चिमी रेल में ऐसे 42 पुलों का पुननिर्माण लंबित है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement