हिंदी भाषा विवाद: राज ठाकरे की पार्टी MNS के नेता का बयान- 'हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं, हमारे माथे पर मत थोपो...'

गैर हिंदी भाषी राज्यों में हिंदी पढ़ाने का प्रस्ताव देने वाली राष्ट्रीय शिक्षा नीति (National Education Policy 2019) के मसौदे पर विवाद लगातार बढ़ता ही जा रहा है.

हिंदी भाषा विवाद: राज ठाकरे की पार्टी MNS के नेता का बयान- 'हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं, हमारे माथे पर मत थोपो...'

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे (Raj Thackeray)- फाइल फोटो

खास बातें

  • गैर हिंदी भाषी राज्यों में हिंदी पढ़ाने का प्रस्ताव
  • MNS के नेता ने दिया इस मसले पर बयान
  • ट्वीट कर कही ये बात
नई दिल्ली:

गैर हिंदी भाषी राज्यों में हिंदी पढ़ाने का प्रस्ताव देने वाली राष्ट्रीय शिक्षा नीति (National Education Policy 2019) के मसौदे पर विवाद लगातार बढ़ता ही जा रहा है. तमिलनाडु राज्य द्वारा विरोध जताए जाने के बाद अब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के नेता इस मसले पर बयान दिया है. उनका कहना है कि हिंदी कोई राष्ट्रीय भाषा नहीं है. एमएनएस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एमएनएस नेता अनिल शिदोरे का बयान ट्वीट किया गया है.

यूपी: सेना के दो जवानों को भीड़ ने बेरहमी के साथ लाठी-डंडों से पीटा, VIDEO आया सामने

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के नेता अनिल शिदोरे ने कहा, "हिंदी एक राष्ट्रीय भाषा नहीं है, इसे हमारे माथे पर मत थोपो." यह ट्वीट मराठी भाषा में किया गया. रविवार को केंद्र सरकार ने अपना बचाव करते हुए कहा था कि किसी भी राज्य पर हिंदी थोपी नहीं जाएगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) और विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने इस मामले में अपने ट्विटर पर संदेश प्रसारित किए और यह भरोसा दिलाया कि इस ड्राफ्ट को अमल में लाने से पहले इसकी समीक्षा की जाएगी. मोदी सरकार के ये दोनों ही मंत्री तमिलनाडु से हैं.

गौरतलब है कि तमिलनाडु इस मामले में सबसे ज्यादा विरोध दर्ज करवा रहा है. इसलिए मोदी सरकार के मंत्रियों ने यह ट्वीट तमिल में किए. उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने भी लोगों से अपील की थी कि वह नयी शिक्षा नीति के मसौदे का अध्ययन, विश्लेषण और बहस करें लेकिन जल्दबाजी में किसी नतीजे पर ना पहुंचें.

Newsbeep

9 साल की बच्ची संग दुष्कर्म करते पकड़ा गया शख्स, भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और डीएमके नेता एमके स्टालिन के बयानों के बाद अब कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी और कांग्रेस नेता शशि थरूर हिंदी को दक्षिण भारत पर थोपने के खिलाफ चेतावनी जारी कर रहे हैं.