NDTV Khabar

हाईकोर्ट के एक फैसले से छिन गईं पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की सभी सुविधाएं

राजस्थान हाईकोर्ट ने राजस्थान मंत्री संशोधन वेतन अधिनियम 2017 को अवैध करार दे दिया, पूर्व मुख्यमंत्रियों को नहीं मिलेंगी सुविधाएं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हाईकोर्ट के एक फैसले से छिन गईं पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की सभी सुविधाएं

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को अब सरकारी बंगला खाली करना पड़ेगा.

खास बातें

  1. पूर्व सीएम को मिलता था आजीवन सरकारी बंगला
  2. आईएएस रैंक का प्राईवेट सेक्रेट्री भी मिलता था
  3. पूर्व सीएम की स्टाफ और कार जैसी सुविधाएं भी छिनीं
जयपुर:

राजस्थान में अब पूर्व मुख्यमंत्रियों को न सरकारी बंगला मिलेगा न कार और न स्टाफ. राजस्थान हाईकोर्ट ने आज राजस्थान मंत्री संशोधन वेतन अधिनियम 2017 को अवैध करार दे दिया. इस अधिनियम में पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन सरकारी बंगला, आईएएस रैंक का प्राईवेट सेक्रेट्री समेत स्टाफ और कार जैसी सुविधाएं दी गई हैं. अब हाईकोर्ट ने इस अधिनियम को रद्द कर कहा कि पूर्व सीएम को कोई सुविधा नहीं दी जा सकती हैं, न ही सरकारी बंगला.

इसका सबसे अधिक असर असर राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधराराजे पर पड़ेगा. राजे ने मुख्यमंत्री का पद छोड़ने से पहले दिसंबर 2018 में खुद के लिए मुख्यमंत्री अवास को ही पूर्व सीएम बंगले के रूप में खुद को आंवटित कर दिया था. राजे अब उसी बंगला में रह रही हैं जिसमें वे बतौर सीएम रह रही थीं.

वसुंधरा राजे के पास पीएस समेत 10 कर्मचारियों का स्टाफ भी है. अब बंगला समेत सब कुछ छोड़ना पड़ सकता है. राजे के अलावा एक ओर पूर्व सीएम जगन्नाथ पहाड़िया के पास भी बंगला समेत अन्य सुविधाएं हैं.


क्या 'खाली' है कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का सरकारी बंगला? इस वजह से उठ रहे सवाल...

टिप्पणियां

VIDEO : पूर्व सांसदों के सरकारी बंगलों का पानी और बिजली होगी बंद



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement