NDTV Khabar

जानें, कैसे सुषमा स्‍वराज ने पूरा किया 17 साल की इस लड़की का सपना

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राजस्‍थान की 17 साल की लड़की का अमेरिका की यूनिवर्सिटी में पढ़ने का सपना पूरा किया है. विदेश मंत्री के हस्‍तक्षेप के बाद सीकर की कुमारी भानूप्रिया हरितवाल को अमेरिका की कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी में कम्प्यूटर साइंस विषय में पढ़ाई करने के लिए वीजा मिल गया है.

54 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जानें, कैसे सुषमा स्‍वराज ने पूरा किया 17 साल की इस लड़की का सपना

सुषमा स्‍वराज की मदद से राजस्‍थान की 17 साल की भानूप्रिया हरितवाल को मिला अमेरिका का वीजा

खास बातें

  1. कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने के लिए मिला वीजा
  2. सीकर जिले के ग्राम जलालपुर निवासी भानुप्रिया हरितवाल
  3. बोर्ड की10वीं की परीक्षा में स्टेट मेरिट में दूसरा स्थान हासिल किया था
जयपुर: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राजस्‍थान की 17 साल की लड़की का अमेरिका की यूनिवर्सिटी में पढ़ने का सपना पूरा किया है. विदेश मंत्री के हस्‍तक्षेप के बाद सीकर की कुमारी भानूप्रिया हरितवाल को अमेरिका की कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी में कम्प्यूटर साइंस विषय में पढ़ाई करने के लिए वीजा मिल गया है.

कुलभूषण जाधव मामले में सुषमा स्‍वराज ने कहा, सुहागिनों को पाकिस्‍तान ने विधवा की तरह पेश किया, 10 बातें

अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अमेरिका दूतावास ने भानूप्रिया का दो बार वीजा निरस्‍त करर दिया था. इसके बाद भानूप्रिया हरितवाल ने सीकर की सांसद स्वामी सुमेधानंद सरस्वती के साथ विदेश मंत्री से मुलाकात कर वीजा दिलवाने में मदद करने का अनुरोध किया था. 

सुषमा स्‍वराज ने पांच पाकिस्तानी बच्चों को मेडिकल वीजा दिया

सीकर जिले के ग्राम जलालपुर निवासी भानुप्रिया हरितवाल ने वर्ष 2015 में राजस्थान बोर्ड की10वीं की परीक्षा में स्टेट मेरिट में दूसरा स्थान प्राप्त किया. राजस्थान सरकार की एक योजना के तहत स्नातक स्तर की चार साल की पढ़ार्ई के लिए एक करोड़ रुपये की छात्रवृति में उसका चयन हुआ है. भानूप्रिया, शेखावाटी क्षेत्र में एक निजी कॉलेज में व्याख्याता की बेटी है.

टिप्पणियां
आपको बता दें कि हाल ही में पाकिस्‍तानी बच्‍चे रोहन के माता-पिता ने चिकित्सा वीजा प्राप्त करने के लिए ट्विटर पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से संपर्क किया था. बच्‍चा जन्‍मजात हृदय रोग से पीड़ित था और उसका जीवन खतरे में था क्योंकि उसके बाईं ओर का दिल अविकसित था. इसके बाद सुषमा स्‍वराज ने उस रोहन और उसके माता-पिता को भारत की वीजा दिलवाया था और बच्‍चे की नया जीवन मिला था. यहां रोहन का एक दुर्लभ हृदय रोग का सफलतापूर्वक इलाज कर उसे नई जिंदगी दी गई. (इनपुट भाषा से)

VIDEO: सुषमा स्‍वराज ने कहा था, इराक में फंसे भारतीयों को लेकर मैंने गुमराह नहीं किया
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement