CJI से नोंकझोक के बाद वकालत छोड़ने वाले राजीव धवन फिर लौटेंगे कोर्ट, इस मामले की करेंगे सुनवाई

राजीव धवन ने सुप्रीम कोर्ट में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में अपने मुवक्किल के आग्रह पर इस निर्णय पर पुनर्विचार किया है.

CJI से नोंकझोक के बाद वकालत छोड़ने वाले राजीव धवन फिर लौटेंगे कोर्ट, इस मामले की करेंगे सुनवाई

वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • अयोध्या मामले की सुनवाई को राजी हुए राजीव धवन
  • मुवक्किल के आग्रह पर अपने निर्णय पर किया पुनर्विचार
  • चीफ जस्टिस से नोंकझोक के बाद छोड़ी थी वकालत
नई दिल्ली :

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के साथ हाल ही में न्यायालय कक्ष में हुई 'तकरार' के बाद वकालत छोड़ने की घोषणा करने वाले वरिष्ठ वकील राजीव धवन अयोध्या मामले में बहस करने को राजी हो गए हैं. धवन ने सुप्रीम कोर्ट में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में अपने मुवक्किल के आग्रह पर इस निर्णय पर पुनर्विचार किया है.

यह भी पढ़ें :  SC में सीनियर एडवोकेट के ऊंची आवाज पर बात करने पर CJI बोले, ये बर्दाश्त नहीं किया जाएगा

दिल्ली सरकार-केंद्र के बीच विवाद मामले में मुख्य न्यायाधीश के साथ तीखी नोंकझोक को 'अपमानजनक समापन' करार देते हुए 74 वर्षीय धवन ने 11 दिसंबर को अदालत में वकालत नहीं करने का फैसला किया था. अयोध्या भूमि विवाद मामले में कुछ मुस्लिम संगठनों का प्रतिनिधत्व कर रहे वकील एजाज मकबूल ने बताया कि उन्होंने इस मामले में राजीव धवन से उसका प्रतिनिधित्व करने का अनुरोध किया था, जिसे वरिष्ठ अधिवक्ता ने स्वीकार कर लिया है.

यह भी पढ़ें :  सुप्रीम कोर्ट में सर्दी की छुट्टी, CJI दीपक मिश्रा की बेंच कर रही इस मामले की सुनवाई

उन्होंने कहा कि अदालत में वकालत से संन्यास की घोषणा करने से पहले राजीव धवन अयोध्या विवाद मामले में उनकी ओर से पेश हो रहे थे. मकबूल ने कहा, 'हमने उनसे (धवन) बाबरी मस्जिद मामले को अपवाद के रूप में लेने का अनुरोध किया और उन्होंने हमारा आग्रह स्वीकार कर लिया. अब वह बाबरी मस्जिद मामले में हमारी ओर से पेश होते रहेंगे.' उन्होंने कहा, 'वह (धवन) प्रधान न्यायाधीश को एक पत्र लिखकर सूचित करेंगे कि वह अपने लंबित मामलों में पेश होते रहेंगे.' धवन ने इससे पहले प्रधान न्यायाधीश को एक पत्र लिखकर सूचित किया था कि उन्होंने अदालत में वकालत नहीं करने का निर्णय किया है.

VIDEO : जजों की नियुक्ति को लेकर केंद्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट के बीच टकराव

उन्होंने इस पत्र में कहा था, 'दिल्ली मामला अपमानजनक तरीके से खत्म होने के बाद मैंने अदालत में वकालत नहीं करने का फैसला किया है. आप मुझे प्रदान किया गया वरिष्ठ अधिवक्ता का गाउन वापस लेने के हकदार हैं, यद्यपि मैं इसे एक याददाश्त और दी गई सेवाओं के लिए अपने पास रखना चाहूंगा.' धवन ने दिल्ली-केन्द्र विवाद मामले में सुनवाई पूरी होने के कई दिन बाद यह घोषणा की थी. इस मामले में सुनवाई पूरी होने से ठीक पहले 6 दिसंबर को प्रधान न्यायाधीश और धवन के बीच तीखी नोंकझोक हुई थी. राजीव धवन अन्य वरिष्ठ अधिवक्ताओं के साथ इस मामले में दिल्ली सरकार की ओर से पेश हो रहे थे.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com