राजनाथ सिंह ने चीन और पाक से लगती सीमा पर बने 44 पुलों का किया उद्घाटन, लद्दाख में 7 पुल खुले

Rajnath Singh : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सोमवार को सीमावर्ती इलाकों में बने 44 पुलों का उद्घाटन किया. इनमें से ज्यादातर चीन से लगे सीमावर्ती क्षेत्रों लद्दाख, अरुणाचल, सिक्किम, उत्तराखंड में हैं. कुछ पुल पाक सीमा से लगे पंजाब और जम्मू-कश्मीर में हैं

राजनाथ सिंह ने चीन और पाक से लगती सीमा पर बने 44 पुलों का किया उद्घाटन, लद्दाख में 7 पुल खुले

Defence Minister Rajnath Singh ने 44 पुलों का ऑनलाइन उद्घाटन किया. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • जम्मू-कश्मीर, लद्दाख,उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम में बने हैं पुल
  • कुछ पुल पाक सीमा से लगे पंजाब और जम्मू-कश्मीर में स्थित
  • बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन ने तैयार किए हैं ये पुल सीमावर्ती क्षेत्रों में
नई दिल्ली:

रक्षा मंत्री (Defence Minister) राजनाथ सिंह ने सोमवार को सीमावर्ती इलाकों में बनाए गए 44 पुलों (Bridge) का उद्घाटन किया. इनमें से ज्यादातर चीन (China Border) से लगे सीमावर्ती क्षेत्रों लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, उत्तराखंड में बने हैं. जबकि कुछ पुल पाकिस्तान सीमा से लगे पंजाब और जम्मू-कश्मीर में निर्मित किए गए हैं.

राजनाथ सिंह ने एक ऑनलाइन समारोह में इन पुलों के लिए आवागमन को हरी झंडी दिखाई. लद्दाख में चीन से गतिरोध का परोक्ष जिक्र करते हुए राजनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश न केवल संकट का मजबूती से सामना कर रहा है, बल्कि इन सीमावर्ती क्षेत्रों में बड़े और ऐतिहासिक बदलाव लाने में भी जुटा है.अधिकारियों के मुताबिक, इनमें से ज्यादातर पुल सीमा पर बेहद रणनीतिक अहमियत वाले इलाकों में स्थित हैं. इनमें से 7 लद्दाख में हैं, जहां भारत और चीन की सेना के बीच कई इलाकों में गतिरोध बना हुआ है.

चीन और पाक से सात हजार किलोमीटर लंबी सीमाएं
पाकिस्तान (Pakistan Border) और चीन (China) से लगी सीमा पर स्थिति की ओर इशारा करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा, "सभी उत्तरी और पूर्वी सीमा पर हालात से वाकिफ हैं. पहले पाकिस्तान और अब चीन, मानो कि एक मुहिम के तहत सीमा विवाद को जन्म दिया जा रहा है. इन देशों के भारत से लगती करीब सात हजार किलोमीटर लंबी सीमाएं हैं. इन इलाकों में तनाव बना हुआ है." ये पुल जनता और सेना दोनों के लिए फायदेमंद होंगे. सीमा पर सड़क, पुलों का यह बुनियादी ढांचे सशस्त्र बलों को सीमावर्ती इलाकों में आवागमन में सहूलियत देगा. उन्होंने कोरोना के इस दौर में बिना रुके काम करने के लिए बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन (BRO) की तारीफ भी की.

Newsbeep

सैनिकों और जनता के लिए आवाजाही आसान
अधिकारियों ने कहा कि इससे दुर्गम पहाड़ियों वाले सीमावर्ती क्षेत्रों में सैनिकों और हथियारों की आवाजाही आसान हो सके, कम वक्त में रसद पहुंचाई सकेगी. रक्षा मंत्री ने सांकेतिक तौर पर अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में नेसिफु टनल की आधारशिला भी रखी. सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की ओर से ये पुल ऐसे वक्त तैयार किए गए हैं, जब लद्दाख के पैंगोंग सो झील समेत फिंगर इलाके में चीन और भारत के बीच सीमा विवाद गहरा गया है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)