NDTV Khabar

जम्मू-कश्मीर में बोले राजनाथ सिंह, 5 बार क्या 50 बार भी आना पड़ा तो आऊंगा

राजनाथ सिंह आज कहा कि पिछले एक वर्ष में कश्मीर घाटी में हालात में काफी सुधार हुआ है और वह कश्मीर की समस्या सुलझाने में मदद करने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति से मिलने को तैयार हैं.

273 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू-कश्मीर में बोले राजनाथ सिंह, 5 बार क्या 50 बार भी आना पड़ा तो आऊंगा

जम्मू-कश्मीर के दौरे पर राजनाथ सिंह

खास बातें

  1. राजनाथ जम्मू-कश्मीर की चार दिवसीय यात्रा पर हैं
  2. कश्मीर के हालात में काफी सुधार हुआ
  3. समाधान को लेकर किसी से भी मिलने को तैयार
श्रीनगर: केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह चार दिवसीय जम्मू-कश्मीर की यात्रा पर हैं. इस दौरान राजनाथ सिंह कई तबकों के लोगों से मिल रहे हैं. राजनाथ सिंह आज कहा कि पिछले एक वर्ष में कश्मीर घाटी में हालात में काफी सुधार हुआ है और वह कश्मीर की समस्या सुलझाने में मदद करने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति से मिलने को तैयार हैं. राजनाथ सिंह ने कहा कि मैं पिछले एक साल में 5 बार कश्मीर आ चुका हूं, अगर जरूरत पड़ी तो 50 बार भी आऊंगा.

गृहमंत्री राजनाथ बोले - ड्यूटी पर मारे गए जवानों के परिवारों को एक करोड़ देने का लक्ष्य

जम्मू-कश्मीर की चार दिवसीय यात्रा पर गए राजनाथ ने संवाददाताओं से कहा कि कश्मीर मुद्दे का स्थाई सामाधान पांच सी..... सहानुभूति, संवाद, सहअस्तित्व, विश्वास बहाली और स्थिरता... पर आधारित है. उन्होंने कहा, यहां शिष्टमंडलों से मिलने और बैठकों के बाद, मुझे लगता है कि कश्मीर में हालात काफी सुधरे हैं. मैं यह दावा नहीं करना चाहता कि सबकुछ बिल्कुल ठीक है, लेकिन हालात सुधर रहे हैं, यह मैं दृढ़ विश्वास के साथ कह सकता हूं. केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों के साथ बातचीत की है और वह सेना के जवानों से भी मिलेंगे.

राजनाथ सिंह चार दिन के जम्मू-कश्मीर दौरे पर, कहा, सबसे बातचीत के लिए तैयार हूं
यह पूछने पर कि क्या सरकार अलगाववादियों के साथ बातचीत के लिए तैयार है, गृहमंत्री ने कहा, मैं ऐसे किसी भी व्यक्ति से मिलने को तैयार हूं जो कश्मीर की समस्या सुलझाने में हमारी मदद करने को इच्छुक है. औपचारिक न्योता देने का कोई सवाल नहीं उठता. जो बात करना चाहते हैं, वह स्वयं आगे आएं. मैं हमेशा खुले मन के साथ यहां आता हूं. उन्होंने कहा कि सरकार ऐसे किसी पक्षकार को बाहर नहीं रखना चाहती, जिनके साथ बातचीत की जानी चाहिए.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement