NDTV Khabar

राम जन्मभूमि मामला : कोर्ट में मुस्लिम पक्ष ने कहा, बयानबाजी से बचे हिन्दू पक्ष

सुप्रीम कोर्ट में इस्माइल फारुखी के फैसले को लेकर मुस्लिम पक्ष की तरफ से बहस पूरी कर ली गई, गुरुवार को हिन्दू पक्ष की तरफ से होगी बहस

373 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
राम जन्मभूमि मामला : कोर्ट में मुस्लिम पक्ष ने कहा, बयानबाजी से बचे हिन्दू पक्ष

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. इस्माइल फारुखी के फैसले को संवैधानिक पीठ में भेजने का मामला
  2. फैसले में कहा गया कि मस्जिद में नमाज़ पढ़ना इस्लाम का अभिन्न हिस्सा नहीं
  3. मुस्लिम पक्ष ने कहा, हमने इस मामले में खुद को अनुशासित किया
नई दिल्ली: राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की तरफ से बहस पूरी हो गई है. गुरुवार को हिन्दू पक्ष की तरफ से बहस होगी.

मुस्लिम पक्ष की तरफ से कहा गया कि हमने इस मामले में कोई भी बयान देने से खुद को अनुशासित किया है, लेकिन हिन्दू पक्ष की तरफ से ऐसा नहीं है. हिन्दू पक्ष की तरफ से लगातार बयानबाजी हो रही है. इस मामले में खुद को अनुशासित करने की जरूरत है.

मुस्लिम पक्ष कि तरफ से यह भी कहा गया कि हिन्दू पक्ष की तरफ से भारतीय पुरातात्विक सर्वेक्षण (ASI) के सबूत होने की बात कही गई है लेकिन इस पर चर्चा तभी होगी जब यह तय होगा कि इस्माइल फारुखी के फैसले को संवैधानिक पीठ में समीक्षा के लिए भेजा जाए या नहीं.

यह भी पढ़ें : राम जन्मभूमि विवाद : एक पक्ष ने कहा मामला संवैधानिक पीठ में जाए, अन्य ने कहा जल्द निपटाएं

मुस्लिम पक्ष की तरफ से पेश हुए वकील राजीव धवन ने कहा कि इस मामले को लेकर अदालत के बाहर बयानबाज़ी बंद होनी चाहिए. एक-दूसरे के ऊपर कीचड़ उछालना बंद होना चाहिए. मुस्लिम पक्ष की तरफ से कहा गया कि इस मामले में बहुत ज्यादा प्रेशर है और ये संवेदनशील मामला है. इस मामले में पहले से कोई निर्णय कर लेना सही नहीं है.

टिप्पणियां
VIDEO : अयोध्या मामले पर अंतिम बहस

सुप्रीम कोर्ट में अभी इस बात पर बहस हो रही है कि इस्माइल फारुखी के फैसले को संवैधानिक पीठ के समक्ष भेजा जाए या नहीं. इस फैसले में कोर्ट ने कहा था कि मस्जिद में नमाज़ पढ़ना इस्लाम का अभिन्न हिस्सा नहीं है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement