NDTV Khabar

अनुच्छेद 35-ए पर बोले BJP महासचिव राम माधव, मोदी सरकार वही करेगी जो राज्य के हित में होगा

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 35-ए हटने की अटकलों के बीच बीजेपी महासचिव राम माधव ने कहा कि केंद्र सरकार राज्य के हित में उचित समय आने पर आवश्यक कदम उठाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अनुच्छेद 35-ए पर बोले BJP महासचिव राम माधव, मोदी सरकार वही करेगी जो राज्य के हित में होगा

बीजेपी महासचिव राम माधव (फाइल फोटो)

नई दिल्ली :

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 35-ए हटने की अटकलों के बीच बीजेपी महासचिव राम माधव ने कहा कि केंद्र सरकार राज्य के हित में उचित समय आने पर आवश्यक कदम उठाएगी. राम माधव बुधवार को पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 35-ए को निरस्त करने को लेकर बीजेपी का रुख बेहद स्पष्ट है और फिलहाल पार्टी कोई निर्णय नहीं करने जा रही है. माधव ने कहा कि, 'यह निर्णय प्रधानमंत्री और उनकी सरकार का होगा, लेकिन मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि जो भी निर्णय वे करेंगे, वह राज्य के हित में होगा.' इस दौरान राम माधव ने राजनीतिक दलों पर निशाना भी साधा. उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश के राजनीतिक दल अपनी राजनैतिक जमीन बचाने के लिए केंद्रीय सशस्त्र अर्धसैनिक बलों के आने-जाने को अन्य मुद्दों से जोड़ कर कश्मीर में डर का माहौल पैदा कर रहे हैं.  

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव बोले- जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव के लिए हम तैयार


राम माधव ने कहा, ‘स्थानीय राजनीतिक दलों के नेता अपने राजनीतिक हितों के लिए भय का माहौल पैदा कर रहे हैं. सुरक्षा की दृष्टि से कश्मीर में बलों का आना जाना लगा हुआ है और यह एक निरंतर प्रक्रिया है. अतिरिक्त बल अमरनाथ यात्रा और चुनावों के लिए लगाए गए हैं क्योंकि यहां पंचायत के लिये प्रखंड स्तर पर चुनाव होने जा रहे हैं, लेकिन, व्यक्तिगत हितों के लिए बलों के आने-जाने को अन्य मुद्दों के साथ जोड़ा जा रहा है.'संविधान का अनुच्छेद 35 ए राज्य को प्रदेश के स्थायी निवासियों को परिभाषित करने की शक्ति प्रदान करता है. पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती पर हमला बोलते हुए भाजपा महासचिव ने कहा कि वह उत्तेजक बयानबाजी कर अपना समाप्त होता रजनीतिक जनाधार बचाने का प्रयास कर रही हैं. माधव ने कहा, ‘क्षेत्रीय राजनीतिक दलों के समाप्त हो रहे जनाधार को बचाने के लिए डर का माहौल पैदा करने का प्रयास किया जा रहा है.  

राम माधव ने कहा- चुनाव जीतने के लिए बीजेपी ने सेना की उपलब्धियों का सहारा नहीं लिया

राज्य में अपने काम को आगे बढ़ा रहे हैं , चुनाव आ रहे हैं...उन्हें लोगों के बीच जाने दीजिए और चुनावों के बारे में बात करने दीजिए. उनके अपने नेता पार्टी की स्थापना दिवस समारोह में हिस्सा नहीं ले रहे हैं...तब वह बमों और विस्फोटकों के बारे में बात करते हैं. चूंकि भ्रष्टाचार के खिलाफ नकेल कसी गयी है इसलिए वह अपने आपको बचाने के लिए यह सब नाटक कर रहे हैं.'  केंद्र की तरफ से संविधान के अनुच्छेद 35 ए को निरस्त करने संबंधी अटकलों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए महबूबा ने 28 जुलाई को कहा था कि जम्मू कश्मीर के मूल निवासियों को निवास और नौकरी का अधिकार प्रदान करने वाले संविधान के प्रावधान के साथ छेड़छाड़ करना विस्फोटकों से हाथ जलाने के समान होगा. माधव ने कहा कि सरकार वह सभी कदम उठाएगी जो कानून के दायरे में और राज्य के लोगों के हित में होगा. उन्होंने कहा, ‘अदालतों के समक्ष कुछ मुद्दे लंबित हैं, जो वहां उठाये जायेंगे.' उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर को दिये गए विशेष प्रावधान को समाप्त करने के बारे में हर बार सवाल किये जा रहे हैं, ‘‘हम यह जानना चाहते हैं कि ऐसा कौन कह रहा है.'    

Exclusive: NDTV से बोले राम माधव- हमारे पास खुद किंग है तो फिर किंगमेकर की जरूरत क्यों?

भाजपा महासचिव ने कहा, ‘वह कहते हैं महबूबा जी. लेकिन महबूबा जी सरकार नहीं चला रही हैं. जिसे कदम उठाना है, वह उठाएगा और जो भी कदम उठाया जाएगा वह जम्मू कश्मीर के हित में होगा. जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल महबूबा कर रही हैं वह खुद को प्रासंगिक बनाये रखने का प्रयास है.'  माधव ने कहा कि मोदी सरकार समाज के सभी वर्गों के लोगों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है और संसद में तीन तलाक विधेयक का पास होना इसी का एजेंडा है.    उन्होंने कहा, ‘इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम संसद में तीन तलाक विधेयक का पास होना है. जिस प्रकार हिंदू कोड में बाल विवाह को प्रतिबंधित किया गया, उसी प्रकार यह विधेयक मुस्लिम महिलाओं के सशक्तिकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम साबित होगा.' 

टिप्पणियां

राम माधव ने फिल्मी अंदाज में बोल तो दिया 'हमारे पास मोदी है', मगर कर दी यह बड़ी गलती  

तीन तलाक विधेयक पर मतदान के दौरान पीडीपी के दो सांसद अनुपस्थित रहे थे, इसके लिए माधव ने परोक्ष रूप से उनका धन्यवाद किया. उन्होंने कहा, ‘कुछ लोगों ने इस विधेयक का सीधे तौर पर समर्थन किया और कुछ लोग मतदान के दौरान अनुपस्थित हो गए. हम उनके समर्थन के लिए उनका धन्यवाद करते हैं. अनपुस्थित होकर उन्होंने हमारा समर्थन किया है.'(इनपुट-भाषा)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement