NDTV Khabar

राम रहीम पर फैसले की घड़ी: सेना पंचकूला पहुंची, अदालत के फैसले से पहले सुरक्षा चाक-चौबंद

गौरतलब है कि पंथ के अनुयायियों के शहर में पहुंचने के बाद किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए यहां सुरक्षा ज्यादा कड़ी कर दी गई है.

473 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
राम रहीम पर फैसले की घड़ी: सेना पंचकूला पहुंची, अदालत के फैसले से पहले सुरक्षा चाक-चौबंद

फाइल फोटो

खास बातें

  1. दोपहर ढाई बजे फैसला आने की उम्‍मीद
  2. 2002 के केस में फैसला आने की संभावना
  3. सुरक्षा के पुख्‍ता चाक चौबंद इंतजाम किए गए
चंडीगढ़: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ विशेष सीबीआई अदालत द्वारा बलात्कार मामले में सजा सुनाये जाने से पहले सेना की टुकड़ियां आज पंचकूला पहुंच गईं. गौरतलब है कि पंथ के अनुयायियों के शहर में पहुंचने के बाद किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए यहां सुरक्षा ज्यादा कड़ी कर दी गई है. डेरा प्रमुख आज सुबह नौ बजे कड़ी सुरक्षा के बीच सड़क मार्ग से सिरसा से पंचकूला रवाना हुए. केंद्रीय बलों के सहयोग से हरियाणा पुलिस डेरा अनुयायियों को शहर से बाहर निकालने में जुटी हुई है, वहीं 50 वर्षीय सिंह ने वीडियो के माध्यम से अपने अनुयायियों से घर वापस लौटने की अपील की है.

अधिकारियों ने बताया कि आज सुबह पंचकूला में सेना तैनात की गई है. हजारों की संख्या में डेरा अनुयायियों के शहर में जमा होने और उससे उत्पन्न तनाव को देखते हुए पंचकूला और सिरसा में सेना बुलाई गई है. सिरसा के पुलिस अधीक्षक अश्विन शेन्वी ने कहा, ''सिरसा में पंथ मुख्यालय पर पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने फ्लैग मार्च किया ताकि रात करीब 10 बजे से अनिश्चितकाल के लिए लगाए गए कर्फ्यू को लागू किया जा सके.'' धारा 144 के तहत शहर में निषेधाज्ञा लगे होने के बावजूद पिछले तीन दिनों में बड़ी संख्या में डेरा अनुयायी पंचकूला में जमा हुए हैं.

पढ़ें: गुरमीत राम रहीम पर क्या है केस, जानें पूरा मामला

धारा 144 लागू
हालांकि, कल देर रात पंचकूला में संवाददाताओं से बातचीत में पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि धारा 144 के तहत पहले हथियार रखने पर प्रतिबंध लगाया गया था. लेकिन बाद में पांच या ज्यादा लोगों के एक स्थान पर एकत्र होने पर भी निषेधाज्ञा लगा दी. सुरक्षा बलों को डेरा अनुयायियों को शहर से निकालने में बहुत दिक्कतें आ रही हैं क्योंकि उनका कहना कि वह अपनी मर्जी से शहर में आये हैं और पंथ प्रमुख के 'दर्शन' होने के बाद ही यहां से जाएंगे. डेरा अनुयायियों को शहर के पार्कों, सड़कों, फ्लाईओवर के नीचे और अन्य जगहों पर तंबू लगाये हुए देखा जा सकता है.

हालांकि अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने जिला अदालत परिसर की ओर जाने वाली सड़क सील कर दी है और किसी को वहां से आने-जाने की अनुमति नहीं है. अधिकारी लाउडस्पीकर के माध्यम से डेरा अनुयायियों से पंचकूला से बाहर जाने की अपील कर रहे हैं.

आरोप
गुरमीत राम रहीम सिंह द्वारा कथित रूप से दो साध्वियों का यौन उत्पीड़न किये जाने संबंधी अज्ञात चिट्ठी मिलने के बाद पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के निर्देश पर सीबीआई ने 2002 में डेरा प्रमुख के खिलाफ मामला दर्ज किया था. डेरा प्रमुख ने हालांकि इन आरोपों से इनकार किया है. हरियाणा के अलावा पंजाब में भी डेरा के समर्थक बड़ी संख्या में मौजूद हैं. हरियाणा के डीजीपी बी एस संधु ने कल कहा था कि पंचकूला में रात भर अभियान चला कर डेरा समर्थकों को सरकार की ओर से मुहैया कराई गईं बसों में बैठा कर शहर से बाहर भेजा जाएगा.

पढ़ें: गुरमीत राम रहीम ने अपने अनुयायियों से की शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील, जारी किया वीडियो

हालांकि आज सुबह से ही डेरा समर्थक पंचकूला के अनेक सेक्टरों में पार्कों, सरकारी इमारतों और फुटपाथों पर जमे हुए हैं. रात भर पुलिस लाउडस्पीकरों के जरिये समर्थकों से लौट जाने की अपील करती रही और धारा 144 लागू होने की जानकारी देती रही लेकिन समर्थकों पर इसका कोई असर नहीं हुआ.

राम रहीम की अपील
राम रहीम ने कल रात एक वीडियो जारी करके समर्थकों से लौट जाने की अपील की थी. उन्होंने कहा, ''मैंने पहले भी शांति बनाए रखने की अपील की थी और समर्थकों से पंचकूला नहीं जाने का आग्रह किया था. सभी (समर्थक) जो पंचकूला में मौजूद हैं उन्हें अपने घरों को लौट जाना चाहिए. मुझे फैसला सुनने के लिए अदालत जाना है और मैं पंचकूला जाऊंगा. हमें कानून का पालन करना चाहिए और शांति बनाए रखनी चाहिए.'' अनुमान है कि इस वक्त पंचकूला में महिलाओं, बच्चों सहित कम से कम एक लाख समर्थक मौजूद हैं. वहीं चंडीगढ़ पुलिस ने चेतावनी दी है कि यदि डेरा समर्थकों ने वहां आने का प्रयास किया तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

उच्च न्यायालय ने पंचकूला में बड़ी संख्या में समर्थकों को आने देने के लिए हरियाणा सरकार को फटकार लगाई और प्रश्न किया है कि क्यों धारा 144 को कड़ाई से लागू नहीं किया गया. गौरतलब है कि पंचकूला में सीबीआई की विशेष अदालत दोपहर में डेरा प्रमुख के खिलाफ यौन शोषण मामले में फैसला सुनाएगी. राम रहीम अपने ऊपर लगे आरोपों को हमेशा से नकारते रहे हैं.

इनपुट: भाषा

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement