NDTV Khabar

राम रहीम केस: राजनाथ सिंह ने हरियाणा और अन्य राज्यों की सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की

इससे पहले शुक्रवार को अदालत के फैसले के बाद पंचकूला और आसपास के इलाकों में व्यापक स्तर पर हुई हिंसा, आगजनी और पुलिस गोलीबारी में कम से कम 31 लोग मारे गए और 250 अन्य घायल हो गए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राम रहीम केस: राजनाथ सिंह ने हरियाणा और अन्य राज्यों की सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की

राजनाथ सिंह (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. गुरमीत राम रहीम रेप केस में दोषी करार
  2. 28 अगस्‍त को इस केस में सुनाई जाएगी सजा
  3. भड़की हिंसा के बाद हालात की समीक्षा के लिए बैठक
नई दिल्ली: गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उत्तर भारत, खासकर हरियाणा में आज सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की जहां बलात्कार मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख को दोषी ठहराए जाने के बाद हुई हिंसा में 31 लोगों की मौत हो गई है. यह जानकारी अधिकारियों ने दी है. केंद्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि और खुफिया ब्यूरो के प्रमुख राजीव जैन समेत शीर्ष अधिकारियों ने हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, दिल्ली, राजस्थान और उत्तर प्रदेश की स्थिति का विस्तृत ब्यौरा पेश किया. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और अर्धसैनिक बलों के प्रमुख भी इस बैठक में मौजूद थे.

पूरे मामले से परिचित एक अधिकारी ने बताया कि गृह मंत्री को कानून व्यवस्था बनाए रखने और शांति स्थापित करने के लिए उठाए गए कदमों से अवगत कराया गया है. माना जा रहा है कि उन्हें इस बात से भी अवगत कराया गया है कि पंचकूला और सिरसा में स्थिति 'बेहद तनावपूर्ण' है जबकि राज्य के अन्य हिस्सों में स्थिति 'तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में है.'

पढ़ें: राम रहीम दोषी करार: कठघरे में मनोहर लाल खट्टर सरकार?

गृह मंत्रालय ने कहा है कि बलात्कार मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद भड़की हिंसा में मरने वालों की संख्या 31 हो गई है. एक अधिकारी ने बताया कि हिंसा के बाद हरियाणा और पंजाब में कई जगहों पर कर्फ्यू लगाया गया है जबकि उत्तर प्रदेश के नौ जिलों, दिल्ली के दो और राजस्थान के एक जिले में हिंसा के बाद निषेधाज्ञा लागू की गई है.

पढ़ें: यही है वह 'गुमनाम' चिट्ठी, जिससे उजागर हुआ गुरमीत राम रहीम के अत्याचार की दास्तां

हरियाणा के अलावा पंजाब, दिल्ली और राजस्थान में हिंसा की छिट पुट घटनाओं की रिपेार्टें थीं. यहां पुलिस ने शांति भंग करने की किसी भी घटना से निपटने के लिए सुरक्षात्मक कदम उठाए हैं. कानून और व्यवस्था को बनाए रखने में स्थानीय पुलिस की मदद के लिए हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ में कम से कम 20 हजार अर्धसैनिकों बलों की तैनाती की गई है.

VIDEO: कानून व्‍यवस्‍था पर खट्टर सरकार फिर नाकाम


अदालत द्वारा गुरमीत को दोषी ठहराए जाने के बाद उनके हजारों अनुयायी उग्र हो गए. उन्होंने वाहनों, इमारतों और रेलवे स्टेशनों पर आगजनी की. पंचकूला में शुरू हुई हिंसा हरियाणा एवं पंजाब के अन्य भागों और यहां तक कि दिल्ली में भी फैल गई. दिल्ली में एक बस और एक ट्रेन फूंक दी गई.

टिप्पणियां
इनपुट: भाषा

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement