देर रात हुई रामविलास पासवान की हार्ट सर्जरी- बेटे चिराग पासवान ने ट्वीट करके दी जानकारी 

बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियों और NDA में सीटों के बंटवारे को लेकर मची खींचतान के बीच केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान अस्पताल में भर्ती हैं.

देर रात हुई रामविलास पासवान की हार्ट सर्जरी- बेटे चिराग पासवान ने ट्वीट करके दी जानकारी 

देर रात रामविलास पासवान का दिल का ऑपरेशन करना पड़ा : चिराग पासवान (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियों और NDA में सीटों के बंटवारे को लेकर मची खींचतान के बीच केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के संस्थापक रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) अस्पताल में भर्ती हैं. दिल्ली के एक अस्पताल में पासवान का इलाज चल रहा है. एलजेपी के अध्यक्ष और पासवान के बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने बताया कि शनिवार देर रात उनका दिल का ऑपरेशन किया गया है. उन्होंने संभावना जताई है कि अगले कुछ हफ्तों में एक और ऑपरेशन करना पड़ सकता है.   

चिराग पासवान ने अपने ट्वीट में लिखा, "पिछले कई दिनो से पापा का अस्पताल में इलाज चल रहा है. कल शाम अचानक उत्पन हुई परिस्थितियों की वजह से देर रात उनके दिल का ऑपरेशन करना पड़ा. ज़रूरत पड़ने पर सम्भवतः कुछ हफ़्तों बाद एक और ऑपरेशन करना पड़े. संकट की इस घड़ी में मेरे और मेरे परिवार के साथ खड़े होने के लिए आप सभी का धन्यवाद." 

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान बीते कुछ दिनों से बीमार चल रहे हैं. उन्हें इलाज के लिए दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने पासवान का हालचाल जनाने के लिए संपर्क किया था. चिराग पासवान ने इस बात की जानकारी ट्वीट में देते हुए उनका आभार भी व्यक्त किया था.

रामविलास पासवान ICU में भर्ती; बेटे चिराग ने लिखी चिट्ठी, बोले- बीमारी में साथ नहीं रहा तो खुद को माफ नहीं कर पाऊंगा

Newsbeep

हाल ही में चिराग पासवान ने पिता रामविलास पासवान के स्वास्थ्य को लेकर एक चिट्ठी भी लिखी थी. यह चिट्ठी पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के लिए लिखी गई थी. पत्र में उन्होंने लिखा कि कोरोना काल में लोगों को राशन मिलने में दिक्कत न आये इस वजह से पापा (राम विलास पासवान) अपने रूटीन हेल्थ चेकअप को टालते रहे, जिसके चलते वह थोड़ा अस्वस्थ हो गए. पिछले तीन हफ्तों से दिल्ली में उनका इलाज चल रहा है. मैं अस्पताल में पापा को रोज बीमारी से लड़ते हुए देख रहा हूं. पापा ने मुझे कई बार पटना जाने का सुझाव भी दिया लेकिन बेटा होने के नाते उन्हें छोड़कर जाना मेरे लिए संभव नहीं है. आज जब उन्हें मेरी जरूरत है तो मुझे उनके साथ रहना चाहिए.

वीडियो: बिहार का चुनावी दंगल, क्या बना रहेगा साथियों का साथ

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com