AIIMS से 12 जनपथ ले जाया गया रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर, शोक में झुका राष्ट्रीय ध्वज

गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि पासवान का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ शनिवार को पटना में किया जाएगा.

AIIMS से 12 जनपथ ले जाया गया रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर, शोक में झुका राष्ट्रीय ध्वज

AIIMS के बाहर जमा राम विलास पासवान के परिजन और समर्थक.

खास बातें

  • 12 जनपथ स्थित आवास पर ले जाया गया राम विलास पासवान का पार्थिव शरीर
  • शनिवार को पटना में होगा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार
  • 74 साल के पासवान लंबे समय से चल रहे थे बीमार, हुई थी हार्ट सर्जरी
नई दिल्ली:

केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी नेता राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) का पार्थिव शरीर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AAIMS) से उनके सरकारी आवास 12 जनपथ ले जाया गया है. गुरुवार (08 अक्टूबर) की शाम उनका निधन हो गया था. वो 74 साल के थे. पासवान कई दिनों से बीमार चल रहे थे और दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती थे. उनके सांसद पुत्र और लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन इस मौके पर एम्स में सुबह में मौजूद थे. 

रामविलास पासवान केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री थे. वो लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक थे. पिछले शनिवार को उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी. वो काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे. उस समय (शनिवार को) चिराग पासवान ने ट्वीट कर बताया था कि अचानक उत्पन हुई परिस्थितियों की वजह से देर रात उनके दिल का ऑपरेशन करना पड़ा. ज़रूरत पड़ने पर सम्भवतः कुछ हफ़्तों बाद एक और ऑपरेशन करना पड़े.

रामविलास पासवान को मौसम वैज्ञानिक क्यों कहा जाता था? किसने दिया था ये नाम?

गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि पासवान का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ शनिवार को पटना में किया जाएगा. इस बीच पासवान के सम्मान में आज राजकीय शोक की घोषणा की गई है. राष्ट्रपति भवन से लेकर संसद भवन तक राष्ट्र ध्वज झुका दिया गया है. सभी राज्यों की राजधानी और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्यालयों में भी राष्ट्र ध्वज झुका रहेगा.

रामविलास पासवान: पुलिस की नौकरी छोड़ राजनीति में रखा था कदम, 23 साल में बने थे MLA, बनाया था वर्ल्ड रिकॉर्ड


रामविलास पासवान 1989 के बाद बनी केंद्र सरकारों में लगभग सभी प्रधानमंत्रियों ( पीवी नरसिम्हा राव और चंद्रशेखर को छोड़कर) की मंत्रिपरिषद में शामिल रहे हैं. उन्हें कुल छह प्रधानमंत्रियों (वीपी सिंह, एचडी देवगौड़ा, आई के गुजराल, अटल बिहारी वाजपेयी, मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी) के साथ काम करने का गौरव हासिल है.

वीडियो: लंबे वक्त से बीमार चल रहे केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com