केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने कहा, 'बोर्ड परीक्षाओं के बाद खोले जा सकते हैं स्कूल लेकिन...'

'कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं लॉकडाउन के चलते पूरी नहीं हो सकी हैं. सरकार इन बची हुई परीक्षाओं को जुलाई के महीने में आयोजित कर सकती है.

नई दिल्ली:

'कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं लॉकडाउन के चलते पूरी नहीं हो सकी हैं. सरकार इन बची हुई परीक्षाओं को जुलाई के महीने में आयोजित कर सकती है. जिसके बाद स्कूलों को छात्रों के लिए दोबारा से खोला जा सकता है.' यह जानकारी केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने एनडीटीवी से बातचीत में दी. हालांकि उन्होंने साफ किया कि अंतिम फैसला जमीनी स्थिति को देखते हुए ही लिया जाएगा. निर्णय लेते समय गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय के निर्देशों का पालन किया जाएगा. 

कोविड-19 के मद्देनजर लागू लॉकडाउन के दौरान जो बच्चे अपने गृह जिलों या अन्य प्रदेश में चले गये हैं, उन्हें अधिक परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि सीबीएसई उनकी 10वीं और 12वीं की परीक्षा उन्हीं जिलों मे करवाने का प्रयास कर रही है. मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने यह जानकारी दी.

निशंक ने कहा, ‘‘ कोविड-19 संकट के कारण हजारों बच्चे अपने गृह प्रदेश में चले गए थे. ऐसी स्थिति में बोर्ड परीक्षाओं में शामिल होने जा रहे विद्यार्थियों की समस्या को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने यह फैसला लिया है कि ऐसे विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा अपने गृह जिले में ही दे सकते हैं.''

मंत्री ने कहा कि छात्रों को परीक्षा देने के लिये बोर्ड द्वारा पूर्व में निर्धारित किए गये परीक्षा केंद्र आने की जरूरत नहीं पड़ेगी और इस बारे में छात्रों को अनुरोध पंजीकृत कराने के लिये सीबीएसई रूपरेखा की घोषणा करेगा. निशंक ने कहा कि छात्र स्कूल को इस बारे में सूचना दे कि वह किस जनपद में है और कहां से अपनी परीक्षा देना चाहता है. उन्होंने कहा कि सीबीएसई बोर्ड कोशिश कर रहा है कि उनकी सुविधा के अनुसार परीक्षा की व्यवस्था करे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने बताया कि जून के प्रथम सप्ताह में इस बारे में छात्रों को पता चल जायेगा कि उन्हें कहां परीक्षा देनी है? गौरतलब है कि कोविड-19 के प्रसार के कारण स्कूल बंद होने और फिर 25 मार्च से राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू के कारण परीक्षा स्थगित कर दी गई थी और अब यह परीक्षा 1 से 15 जुलाई के बीच होगी. 12वीं कक्षा की लंबित परीक्षा पूरे देश में होगी जबकि 10वीं कक्षा की लंबित परीक्षा केवल उत्तर पूर्व दिल्ली में होगी. 

(भाषा से इनपुट के साथ)