NDTV Khabar

टॉयलेट जाने के बहाने ईडी दफ्तर से भागे थे रतुल पुरी, जानें हाईवोल्टेज ड्रामे से गिरफ्तारी तक का पूरा मामला

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया बैंक द्वारा 354 करोड़ रुपये का फ्रॉड करने की मिली शिकायत के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे और मोजरबेयर कंपनी के पूर्व सीनियर एक्जक्यूटिव रतुल पुरी को गिरफ्तार कर लिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
टॉयलेट जाने के बहाने ईडी दफ्तर से भागे थे रतुल पुरी, जानें हाईवोल्टेज ड्रामे से गिरफ्तारी तक का पूरा मामला

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी हुए गिरफ्तार

खास बातें

  1. रतुल पुरी कैसे फंसे एजेंसियों के जाल में
  2. हाईवोल्टेज ड्रामे से गिरफ्तारी तक
  3. मंगलवार को ईडी ने किया गिरफ्तार
नई दिल्ली:

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया बैंक द्वारा 354 करोड़ रुपये का फ्रॉड करने की मिली शिकायत के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे और मोजरबेयर कंपनी के पूर्व सीनियर एक्जक्यूटिव रतुल पुरी को गिरफ्तार कर लिया है. सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया बैंक द्वारा शिकायत के बाद पहले सीबीआई ने केस दर्ज किया था. उसके बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मामला दर्ज किया. सीबीआई ने कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी के अलावा उनके पिता दीपक पुरी और मां नीता पुरी के खिलाफ भी ठगी और जालसाजी का केस दर्ज किया था. पिछले महीने 26 जुलाई को ईडी दफ्तर से रतुल पुरी फरार हुए थे. चलिए आपको 26 जुलाई से लेकर अब सभी मामलों को क्रमबद्ध तरीके से बताते हैं.


354 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले में ईडी ने CM कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को किया गिरफ्तार

रतुल पुरी के बैंक फ्रॉड समेत सभी मामलों की टाइमलाइन:

26 जुलाई: अगुस्ता वेस्टलैंड घोटाले से जुड़े मनी लांड्रिंग के मामले में पूछताछ के दौरान रतुलपुरी टॉयलेट जाने बहाने ईडी दफ्तर से भाग गए थे. उसी दिन ईडी ने उन्हें खोजने के लिए घर और दफ्तर में तलाशी ली.

27 जुलाई: रतुल पुरी ने गिरफ्तारी के डर से रॉउस एवेन्यू कोर्ट में अग्रिम ज़मानत की अर्जी दाखिल की. जिसमें रतुलपुरी की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी और विजय अग्रवाल जैसे नामी वकील पेश हुए. रॉउस एवेन्यू कोर्ट में एक हफ्ते तक अग्रिम जमानत पर मैराथन सुनवाई चली. इस दौरान कोर्ट ने उन्हें गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दे दी. इसी बीच रतुल पुरी राहत पाने के लिए हाइकोर्ट भी गए, लेकिन अर्जी वापस ले ली.

जम्मू कश्मीर: आर्टिकल 370 हटने के बाद लोगों का खर्चीली शादियों से परहेज, मेहमानों की सूची घटी, ज्वैलरी और मीट कारोबार पर असर

6 अगस्त: रॉउस एवेन्यू कोर्ट ने रतुल पुरी की अग्रिम जमानत खारिज़ कर दी.

9 अगस्त: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की अर्जी पर रॉउस एवेन्यू कोर्ट ने उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी कर दिया. उसके बाद रतुल पुरी राहत पाने के लिए फिर दिल्ली हाईकोर्ट गए. हाईकोर्ट ने 20 अगस्त तक गिरफ्तारी से राहत देते हुए ईडी से रिप्लाई फ़ाइल करने को कहा. वहीं रॉउस एवेन्यू कोर्ट में भी रतुल पुरी ने गैरजमानती वारंट रद्द करने की अर्जी डाली. इसी पर कोर्ट फैसला 21 अगस्त को सुनाएगा.

17 अगस्त: लेकिन इसी बीच सीबीआई ने रतुलपुरी, उनके पिता दीपक पुरी और मां नीता पुरी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया. सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने आरोप लगाया कि इन लोगों ने बैंक से लोन लेकर 354 करोड़ का फ्रॉड किया है.

18 अगस्त: सीबीआई की इसी एफआईआर को आधार बनाकर रतुल पुरी और उनके परिवार वालों के खिलाफ मनी लांड्रिंग का एक नया केस दर्ज किया.

टिप्पणियां

20 अगस्त: इसी केस में मंगलवार को रतुल पुरी को ईडी ने गिरफ्तारी कर लिया.

Video: बैंक फ्रॉड: ईडी ने CM कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को किया गिरफ्तार



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement