NDTV Khabar

सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने अब खुद एयरइंडिया का टिकट कैंसिल करवाया, जानें क्या है वजह

69 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने अब खुद एयरइंडिया का टिकट कैंसिल करवाया, जानें क्या है वजह

शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने एयर इंडिया का टिकट किया कैंसिल

नई दिल्ली: एयर इंडिया के अधिकारियों से बदसलूकी करने के आरोपी शिवसेना सांसद रवीन्द्र गायकवाड आज से एक बार फिर हवाई सफ़र करने वाले थे, लेकिन अंतिम वक्त में उन्होंने अपना टिकट कैंसिल करा लिया. उड़ान पर पाबंदी हटाने के दो दिन बाद आज उन्होंने पुणे से दिल्ली के लिए टिकट बुक कराई थी. वह सुबह 7 बजे निकलने वाले थे. अब वह ट्रेन से दिल्ली आएंगे. दरअसल, 23 मार्च को पुणे से दिल्ली जाने के दौरान गायकवाड पर एयर इंडिया के अधिकारी से बदसलूकी का आरोप लगा जिसके बाद एयर इंडिया समेत दूसरी उड़ान कंपनियों ने उन पर  बैन लगा दिया हालांकि अपने किए पर अफसोस जताने के बाद उन पर पाबंदी हटा ली गई थी. (रवींद्र गायकवाड़ को क्‍यों और किसके दबाव में टारगेट किया गया, इसका जल्‍द पर्दाफाश होगा: शिवसेना)

उनके टिकट कैंसिल करवाने को लेकर कई जानकारियां सामने आ रही हैं. सूत्रों के मुताबिक- वे शुरू से कह रहे थे कि वह माफी नहीं मांगेंगे, लेकिन एविएशन मंत्रालय की तरफ से शुक्रवार को एयरइंडिया को चिट्ठी गई कि उन्होंने माफी मांग ली है और कहा है कि वह ऐसा व्यवहार दोबारा नहीं करेंगे. ऐसे में माफी को लेकर मीडिया से सवाल-जवाब होना वाजिब था. सो कहा जा रहा है कि उन्होंने सवालों से बचने के लिए टिकट कैंसिल करवाना उचित समझा. यही नहीं जयंत सिन्हा ने भी ट्वीट करके जानकारी दी थी कि उन्होंने माफी मांग ली है. वहीं पारिवारिक कारणों से भी टिकट कैंसिल करवाई गई हो इससे भी इनकार नहीं है.

मैं यह पत्र दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर खेद जताने के लिए लिख रहा हूं - गायकवाड़
एयर इंडिया या संबंधित कर्मचारी से माफी नहीं मांगने पर अड़े गायकवाड ने कहा, 'मैं यह पत्र 23 मार्च 2017 को एयर इंडिया उड़ान संख्या एआई..852 सीट नंबर 1एफ पर हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर खेद जताने के लिए लिख रहा हूं'. उन्होंने पत्र में लिखा, 'यह किसी का इरादा नहीं हो सकता कि स्थिति उस स्तर तक बढ़ जाए जैसा कि अंतत: हुआ. चल रही जांच से जहां जिम्मेदारी तय करने के लिए घटना का वास्तविक क्रम सामने आएगा, कृपा करके इस घटना को भविष्य में ऐसी किसी संभावित पुनरावृत्ति के कारण के तौर पर नहीं देखा जाए'. आधिकारिक सूत्रों के अनुसार यह पत्र संसद में लोकसभाध्यक्ष सुमित्रा महाजन के चैंबर में हुई उस बैठक के बाद आया, जिसमें शिवसेना के सांसदों से कहा गया कि यदि गायकवाड़ यह प्रतिबद्धता जताते हुए एक बयान जारी कर दें कि वह भविष्य में ऐसी किसी घटना में लिप्त नहीं होंगे तो सरकार हस्तक्षेप कर सकती है और रोक हटवा सकती है.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement