रवीश कुमार ने एनिमेशन और फिल्म इंडस्ट्री को लेकर किया पोस्ट, कही ये बात

रवीश कुमार ने लिखा है कि हमारे यहाँ इंडस्ट्री के नाम पर पुराने कैमरे लगा कर सीखाने लगते हैं.

रवीश कुमार ने एनिमेशन और फिल्म इंडस्ट्री को लेकर किया पोस्ट, कही ये बात

रवीश कुमार

खास बातें

  • रवीश कुमार ने एनिमेशन और फिल्म इंडस्ट्री पर पोस्ट लिखा है.
  • उन्होंने ये पोस्ट फेसबुक पर किया है.
  • उन्होंने विदेशों में छात्रों को मिल रही खास ट्रेनिंग पर प्रकाश डाला है.
नई दिल्ली:

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार (Ravish Kumar) ने एनिमेशन और फिल्म इंडस्ट्री पर अपने विचार व्यक्त किए हैं. उन्होंने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा है. उन्होंने विदेशों में छात्रों को मिल रही ट्रेनिंग की तुलना भारतीय छात्रों को मिल रही ट्रेनिंग से की है. उन्होंने लिखा है कि हमारे यहाँ इंडस्ट्री के नाम पर पुराने कैमरे लगा कर सीखाने लगते हैं.

रवीश कुमार ने लिखा है-

सेंटर फ़ॉर मीडिया इंडस्ट्रीज़ इंस्टीट्यूट, अटलांटा. यह जार्जिया यूनिवर्सिटी के तहत है. हर रंग का स्टूडियो 4D स्टूडियो है और इस वक्त दुनिया में मात्र 6 जगहों पर हैं. यहाँ के छात्र 4D स्टूडियो में सीख रहे हैं. जार्जियै यूनिवर्सिटी सरकारी है.

ho49d4r
 

यहाँ आने वाले ज़्यादातर छात्रों की सालाना आय अमरीका के स्तर से कम है. वहाँ पर छात्र 4D स्टूडियो में रिकॉर्डिंग कर रहे हैं और एडिटिंग सीख रहे हैं. यहाँ के छात्र मीडिया स्टार्ट अप से लेकर मीडिया संबंधित एप बनाना सीख रहे थे.

167tu948

अमरीका में ई-स्पोर्ट्स का जलवा बढ़ रहा है. यूनिवर्सिटी की अपनी अपनी टीम बनने लगी है. उसके लिए बक़ायदा एक क्लास रूम है. तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि क्लास रूम में ख़ास तरह की कुर्सियाँ हैं.

adqv8hhg

हेड फोन हैं. गेम का मतलब टाइम पास करना नहीं बल्कि गंभीरता से खेलना है और सीखना है. इसलिए अलग से ‘ कंसोल' यूनिट है.एनिमेशन कैरेक्टर बनाने का लैब देखा वैसे भी यहाँ क्लासरूम जैसा कुछ दिखा नहीं.

p4b4lr08

लैब जैसा ही हर कमरा दिखा. आख़िर में आप बैंक का लॉकर जैसा देखेंगे. इसी लॉकर में कोक का फ़ार्मूला रखा गया था. अब इसमें दो कुर्सियाँ लगा दी गई हैं जहाँ छात्र बैठकर ख़्वाब देखते हैं और योजनाएँ बनाते हैं.

q80hp5s8

अटलांटा हॉलीवुड के बाद फिल्म और एनिमेशन इंडस्ट्री का दूसरा बड़ा हब है. तो आज के समय में फिल्म वाले जिस टेक्नॉलजी पर काम कर रहे हैं, उसके हिसाब से टेक्नॉलजी की ट्रेनिंग है.

r21cdpg

हमारे यहाँ इंडस्ट्री के नाम पर पुराने कैमरे लगा कर सीखाने लगते हैं. भारत के लाखों छात्र अपनी संस्थाओं के द्वारा आर्थिक और बौद्धिक रूप से ठगे जाते हैं लेकिन वे इसके बाद भी अमरीकी छात्रों से ज़्यादा जानते हैं.

eb8nlsb8

उनके इस भ्रम बोध का दुनिया में कोई मुक़ाबला नहीं है. सारी तस्वीरों को देखिए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अन्य खबरें
बिहार में दरोगा भर्ती को लेकर रवीश कुमार ने किया एक और पोस्ट, जानिए पूरा मामला
रवीश कुमार का ब्लॉग: फेसबुक पोस्ट के बाद बिहार सरकार ने दारोगा परीक्षा की पात्रता में किया बदलाव