NDTV Khabar

‘बेरोजगारी के संकट’ पर रवीश कुमार की खास सीरीज़

आइए रवीश कुमार के नौकरियों और बेरोजगारी से जुड़ी सीरीज के तहत लिखे गए सभी ब्लॉग्स और प्राइम टाइम शोज़ पर एक नजर डालें...

44 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
‘बेरोजगारी के संकट’ पर रवीश कुमार की खास सीरीज़

नौकरियों पर रवीश कुमार की सीरीज़ (फाइल फोटो)

देश में नौकरियों पर संकट और बेरोजगारी के बढ़ते हालात पर रवीश कुमार ने एक सीरीज शुरू की है. इसमें वह इसी मसले के इर्द-गिर्द आंकड़ों और जमीनी हकीकत को पेश करते हुए अपनी बात रखत हैं. रवीश कुमार ने पिछले दिनों इस सीरीज की शुरुआत में लिखा, '2014 के चुनावों में वादा किया गया था कि दो करोड़ रोज़गार हर साल पैदा करेंगे. मगर केंद्रीय श्रम मंत्रालय का कोई भी आंकड़ा 10 लाख भी नहीं पहुंचता दिखता है. राज्यों में भी तो श्रम मंत्रालय होंगे, वो क्यों नहीं अपने यहां का आंकड़ा जारी करते हैं. श्रम मंत्रालय का सर्वे हो या आर्थिक सर्वे सबमें रोज़गार की रफ्तार सुस्त होती दिख रही है. अक्सर रोज़गार के जो भी सर्वे आते हैं वो मुख्य रूप से 8 सेक्टरों के होते हैं. मैन्यूफैक्चरिंग, व्यापार, निमार्ण, शिक्षा, स्वास्थ्य, सूचना, टेक्नालजी, ट्रांसपोर्ट, होटल, रेस्त्रां वगैरह. जुलाई 2014 से दिसंबर 2016 के बीच मात्र 6, 41, 0000 नौकरियां इन सेक्टरों में दी गईं. जुलाई 2011 से दिसंबर 2013 के बीच 12.8 लाख नौकरियां इन सेक्टरों में दी गई थीं. 12 लाख से घटकर हम साढ़े छह लाख पर आ गए हैं. ये श्रम मंत्रालय के सर्वे का ही आंकड़ा हैं जिसे इंडियास्पेंड.कॉम ने छापा है.'

टिप्पणियां
आइए रवीश कुमार के इस मुद्दे से जुड़े सभी ब्लॉग्स और प्राइम टाइम शोज़ पर एक नजर डालें...

सभी ब्लॉग्स:

सभी वीडियो :


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement