NDTV Khabar

रेयान स्कूल के पिंटो परिवार को हाईकोर्ट से मिली राहत को प्रद्युम्न के पिता ने SC में दी चुनौती

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने 7 अक्टूबर तक गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी. गुड़गांव के रेयान स्कूल में प्रद्युम्न की हत्या के बाद मालिकों ने अग्रिम जमानत मांगी थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रेयान स्कूल के पिंटो परिवार को हाईकोर्ट से मिली राहत को प्रद्युम्न के पिता ने SC में दी चुनौती

रयान इंटरनेशल स्कूल के टॉयलेट में मिली थी प्रद्युम्न की लाश

खास बातें

  1. हाईकोर्ट ने 7 अक्टूबर तक गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी
  2. प्रद्युम्न की हत्या के बाद मालिकों ने अग्रिम जमानत मांगी थी.
  3. पिता ने दी है सुप्रीम कोर्ट में अर्जी
नई दिल्ली: रेयान इंटरनेशनल स्कूल के मालिक पिंटो परिवार को हाई कोर्ट से मिली राहत को प्रद्युम्न के पिता ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी. पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने 7 अक्टूबर तक गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी. गुड़गांव के रेयान स्कूल में प्रद्युम्न की हत्या के बाद मालिकों ने अग्रिम जमानत मांगी थी.

रयान मर्डर केस : पिता ने सरकार की मंशा पर खड़े किए सवाल, वकील ने कहा सीबीआई क्यों नहीं शुरू कर रही जांच

रेयान के मालिक रेयान ऑगस्टाइन पिंटो, पिता रेयान ऑगस्टाइन फ्रांसिस पिंटो और मां ग्रेस पिंटो ने अग्रिम जमानत के लिए याचिका लगाई थी. सीबीआई ने सुनवाई के दौरान जवाब देने के लिए दो दिन का समय मांगा. इस पर कोर्ट ने अगली सुनवाई तक इनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है.

सीसीटीवी फुटेज में दिखा, गला रेते जाने के बाद घिसटते हुए टॉयलेट से बाहर आया था प्रद्युम्‍न : पुलिस

टिप्पणियां
वहीं बॉम्बे हाईकोर्ट के निर्देश पर रेयान स्कूल के मालिको ने अपना पासपोर्ट जमा करा दिया है. कोर्ट ने कहा था कि पिंटो परिवार के विदेश भाग सकता है इसलिए उन्हें अपना पासपोर्ट जमा कराना होगा. आरोपी कंडक्टर अशोक के वकील ने कहा है कि उसने हत्या नहीं की. अशोक के वकील ने कहा है कि कंडक्टर को झूठे केस में फंसाया जा रहा है. पुलिस ने ज़बरदस्ती उससे बयान दिलवाया है.

क्या है मामला ?
हरियाणा के गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के बच्चे प्रद्युम्न की हत्या कर दी गई थी. प्रद्युम्न की बॉडी टॉयलेट में मिली थी. इस मामले में हरियाणा पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को गिरफ्तार कर लिया था. बता दें कि 8 महीने पहले ही आरोपी अशोक स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था.
अशोक ने बताया कि मेरी बुद्धि खराब हो गई थी. मैं स्कूल के बच्चों के टॉयलेट में था. वहां मैं गलत काम कर रहा था. तभी वह बच्चा आ गया. उसने मुझे गलत काम करते देख लिया. सबसे पहले तो मैंने उसे धक्का दिया. फिर अंदर खींच लिया. वह शोर मचाने लग गया, इससे मैं काफी डर गया. फिर मैंने बच्चे को दो बार चाकू से मारा और उसका गला रेत दिया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement