आर्थिक सुस्ती के बीच RBI गवर्नर ने बैंकों से कहा- आ सकती हैं चुनौतियां, रहें तैयार

यह टिप्पणी ऐसे समय आई है जबकि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि वर्ष की दूसरी तिमाही में छह साल के निचले स्तर 4.5 प्रतिशत पर पहुंच गई है. 

आर्थिक सुस्ती के बीच RBI गवर्नर ने बैंकों से कहा- आ सकती हैं चुनौतियां, रहें तैयार

केन्द्रीय बैंक ने गत सप्ताह की गई समीक्षा में रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया.

खास बातें

  • शक्तिकांत दास ने कहा- बैंकिंग क्षेत्र में आ रहा सुधार
  • बैंकों से तैयार रहने के लिए कहा
  • जीडीपी 6 साल के निचले स्तर पर पहुंच गई है
मुंबई:

देश में इन दिनों अर्थव्यवस्था की हालत अच्छी नहीं है. इसी बीच रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बैंकों से चुनौतियों सेते लिए तैयार रहने को कहा है. बुधवार को बैंकों से गवर्नर ने कहा कि मौजूदा आर्थिक परिस्थितियां उनके समक्ष कुछ चुनौतियां खड़ी कर सकती है इसलिये बैंकों को पूरी मुस्तैदी के साथ इनका मुकाबला करने के लिये तैयार रहना चाहिये. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के प्रमुखों के साथ बातचीत में दास ने इस बात पर भी गौर किया कि बैंकिंग क्षेत्र में सुधार आ रहा है और यह मजबूत बना हुआ है. रिजर्व बैंक गवर्नर की यह टिप्पणी ऐसे समय आई है जबकि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि वर्ष की दूसरी तिमाही में छह साल के निचले स्तर 4.5 प्रतिशत पर पहुंच गई है. 

PMC बैंक की स्थिति पर है करीबी नजर; फॉरेंसिक ऑडिट जारी : RBI गवर्नर

रिजर्व बैंक ने इसे देखते हुये चालू वित्त वर्ष की आर्थिक वृद्धि का अनुमान भी कम करके पांच प्रतिशत कर दिया. रिजर्व बैंक की यहां जारी विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘‘गवर्नर ने इस बात पर गौर किया है कि बैंकिंग क्षेत्र में कुछ सुधार आया है और मौजूदा आर्थिक स्थिति में कुछ चुनौतियां खड़ी होने की आशंका के बावजूद क्षेत्र में मजबूती बनी हुई है. उन्होंने बैंकों से कहा कि वह उभरती चुनौतियों का मुकाबला करने के लिये पूरी तरह से मुस्तैद रहें. 

Newsbeep

RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास बोले, वैश्विक जोखिम बढ़ने के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस मामले में उन्होंने खासतौर से दबाव वाली संपत्तियों के समाधान में समन्वित तरीके से काम करने को कहा.'' दास ने इस दौरान बैंक प्रमुखों के साथ मौद्रिक नीति दर में की गई कटौती का लाभ आखिरी लाभार्थी तक पहुंचाने पर भी विचार विमर्श किया. यहां यह गौर करने की बात है कि रिजर्व बैंक ने इस साल पांच द्विमासिक समीक्षाओं में कुल मिलाकर 1.35 प्रतिशत कटौती की है हालांकि केन्द्रीय बैंक ने गत सप्ताह की गई समीक्षा में रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)