NDTV Khabar

रिपोर्टर डायरी : विदेशी फैशन डिजाइनर, डांस टीचर और फुटबॉल प्लेयर भी बन रहे हैं महामंडलेश्वर

फ्रांस, रूस, जापान जैसे कई देशों के अनुयायी दीक्षा लेने के लिए कुंभ आ रहे हैं, सन्यास जीवन पर अखाड़ा संतोष जता देता है तब महामंडलेश्वर घोषित होते हैं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रिपोर्टर डायरी : विदेशी फैशन डिजाइनर, डांस टीचर और फुटबॉल प्लेयर भी बन रहे हैं महामंडलेश्वर

प्रयागराज के कुंभ में विदेशी संन्यासी.

खास बातें

  1. गृहस्थ जीवन का त्याग करना पड़ता है
  2. विदेशियों के अलावा नेता भी बन रहे महामंडलेश्वर
  3. कुंभ मेले के प्रचार में विदेशी शिष्यों का बड़ा योगदान
प्रयागराज:

आंख बंद करके हाथों से ताली बजाते हुए हिन्दी के भजन गाती रूस की रहने वाली यूनिकोवा 9 साल बाद कृष्णा गिरी के नाम से भक्तों के बीच मशहूर हैं. सरकारी स्कूल में डांस टीचर रही कृष्णा गिरी ने 2010 में दीक्षा ले ली थी. अब घर परिवार से सन्यास लेकर महामंडलेश्वर बनने की कतार में शामिल हैं. उनके सैकड़ों अनुयायी भी रूस से कुंभ मेले में पहुंचे हैं.

कृष्णा गिरी के बगल में किसी समय मास्को में फैशन डिजायनर रहीं महामंडलेश्वर आनंद लीला भी मौजूद हैं. पायलट बाबा के कैंप में वे रुकी हैं. उनको भले अंग्रेजी और हिन्दी नहीं आती है लेकिन अपने ट्रांसलेटर के जरिए वे क्रियायोग के विषय पर भारतीय संतों से चर्चा कर रही हैं. वे ज्यादातर समय रूस में रहती हैं और प्रचार प्रसार और दीक्षा वहीं देती हैं.

बाबा रामदेव ने कुंभ में साधुओं से ऐसी चीज दान में ले ली जिनसे है उनका पुराना नाता


जापान की महामंडलेश्वर
मूल रूप से जापान की रहने वालीं महामंडलेश्वर केको आइकावा के आने की तैयारियां जोरों पर चल रही है. गुरुवार को वे अपने पांच सौ जापानी समर्थकों के साथ कुंभ मेला पहुंचेगी. जगह की कमी है लिहाजा पाइलट बाबा के शिविर में कुंभ मेले में पहली बार दोमंजिला हाइटेक हट तैयार हो रहा है.

रिपोर्टर डायरी : कुंभ में चोरों का आतंक, CCTV और 20 हज़ार पुलिस के बावजूद रोज़ाना लाखों की चोरी

कैसे बनते हैं महामंडलेश्वर
महामंडलेश्वर बनना आसान नहीं होता है लेकिन उसके बावजूद फ्रांस, रूस, जापान जैसे कई देशों के अनुयायी दीक्षा लेने के लिए कुंभ आ रहे हैं. दीक्षा के बाद जब उनके सन्यास जीवन पर अखाड़ा संतोष जता देता है तब उन्हें महामंडलेश्वर घोषित किया जाता है. इस दौरान उन्हें गृहस्थ जीवन का त्याग करना पड़ता है.

qfv374ic

 

टिप्पणियां

नेता भी बने हैं महामंडलेश्वर
मध्यप्रदेश में किसी समय कांग्रेस के नेता रह चुके अब महामंडलेश्वर की पदवी प्राप्त कर चुके शैलेशानंद मध्यप्रदेश के पिछड़े जिले में आश्रम बनाकर वहां लोगों को नशे और डिप्रेशन से निजात दिलाने के लिए काम कर रहे हैं. वे बताते हैं कि पश्चिमी देशों ने साइंस में बहुत खोज की है लेकिन इंसान की खोज में विफल रहे हैं. लिहाजा आध्यात्मिक शांति की खोज में विदेशी श्रद्धालु क्रिया योग की तरफ आ रहे हैं. विदेशी महामंडलेश्वर विश्वदेवा जी, जापान से कैला देवी,आनंद लीला माता, श्रद्धा माता कई महामंडलेश्वर हैं. उन्हीं के साथ किसी समय भूटान की फुटबाल प्लेयर रह चुकीं माता श्रद्धा भी हैं. जो अंग्रेजी के साथ शानदार हिन्दी बोलती हैं. इनके साथ ही हरियाणा से आई चेतना माता भी हैं जो कभी IAS की तैयारी कर रही थीं लेकिन अब महामंडलेश्वर बनकर हरियाणा में योग आध्यात्म की अलख जलाए हैं.

आप कह सकते हैं कुंभ मेले के बारे में दुनिया भर में जानकारी देने और फैलाने में इन देशी विदेशी महामंडलेश्वर और शिष्यों की बड़ी भूमिका है. यही वजह है कि अब कई अखाड़े ज्यादा से ज्यादा अपनी शाखाएं देश-विदेश में फैला रहे हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement