पूर्वोत्तर में गणतंत्र दिवस का बहिष्कार, अलर्ट

खास बातें

  • पूर्वोत्तर में अलगाववादियों के गणतंत्र दिवस का बहिष्कार करने की घोषणा के बाद रविवार को सुरक्षाबलों को कड़ी चौकसी बरतने को कहा गया।
गुवाहाटी:

पूर्वोत्तर में अलगाववादियों के गणतंत्र दिवस का बहिष्कार करने की घोषणा के बाद रविवार को सुरक्षाबलों को कड़ी चौकसी बरतने को कहा गया। असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने कहा, "हमने सुरक्षा बलों को सतर्क कर दिया है ताकि गणतंत्र दिवस से पहले अलगाववादी हिंसात्मक घटना को अंजाम न दे सके।" इस इलाके में छह मुख्य अलगावादी संगठनों ने गणतंत्र दिवस के बहिष्कार की घोषणा की है और 26 जनवरी को हड़ताल का आह्वान किया है। गणतंत्र दिवस का बहिष्कार करने वाले संगठनों में 'युनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम'(उल्फा), 'नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड' (एनडीएलएफ), 'मणिपुर पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट' (एमपीएलएफ) सहित कई बड़े विद्रोही संगठनों जैसे 'कामतपुर लिबरेशन ऑर्गेनाइजेशन' (केएलओ), 'नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा' (एनएलएफटी) और 'त्रिपुरा पीपुल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट' (टीपीडीएफ) शामिल हैं। ये सभी समूह असम, मणिपुर और त्रिपुरा में सक्रिय हैं। छह विद्रोही संगठनों ने पत्रकारों को भेजे ईमेल में गणतंत्र दिवस के बहिष्कार का ऐलान किया है। ईमेल में कहा गया है, "हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इस इलाके के लोगों का भविष्य भारतीय औपनिवेशिक व्यवस्था के भीतर खत्म हो चुका है। हम अपनी सम्प्रभुता और आजादी हासिल करने के लिए भारतीय औपनिवेशिक शासन के खिलाफ लड़ रहे हैं। तभी हम सम्मान के साथ जीवित रह सकते हैं।"

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com