NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव 2019 : क्या एक बार फिर कहेंगे एक-दूसरे को 'नमस्ते'?

पश्चिम बंगाल में रैली को संबोधित करते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि बीजेपी की अगली सरकार बनाने के बाद उनकी पार्टी कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा देगी. 'उन्होंने कहा, ‘‘केन्द्र में भाजपा की अगली सरकार बनाने के बाद हम कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा देंगे.'' संविधान का अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव 2019 :  क्या एक बार फिर कहेंगे एक-दूसरे को 'नमस्ते'?

खास बातें

  1. अनुच्छेद 370 पर मतभेद
  2. अमित शाह ने किया है हटाने का वादा
  3. कॉमन सिविल कोड पर भी रुख अलग
नई दिल्ली:

ऐसा लग रहा है कि जिस अनुच्छेद 370  को लेकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह चुनावी रैलियों में बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं उसको एनडीए के सहयोगी जेडीयू खास तवज्जो देने के मूड में नहीं है. एनडीटीवी से बातचीत में जब जेडीयू के महासचिव केसी त्यागी से प्रधानमंत्री मोदी की रैली में वंदे मातरम के नारे के दौरान नीतीश कुमार की ओर से कोई भी प्रतिक्रिया न देने पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी वंदे मातरम का विरोध नहीं करती है लेकिन यह किसी के भी ऊपर थोपा नहीं जाना चाहिए. इसके बाद जब अनुच्छेद 370 पर उनसे सवाल पूछा गया तो त्यागी का कहना था कि जनता पार्टी में भी आर्टिकल 370 था जिसमें भारतीय जनता पार्टी और भारतीय जनसंघ उसका हिस्सा थी. आप 1977 का जनता पार्टी का चुनावी घोषणा पत्र निकालिए जिसमें अटल जी भी थे, आडवाणी जी भी थे, नाना जी देशमुख भी थे. उस घोषणापत्र में लिखा है हम आर्टिकल 370 के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे. उनका इशारा साफ था कि एनडीए के एजेंडे में अनुच्छेद 370 और एनआरसी मुद्दा नहीं हैं. एनआरसी पर तो पहले ही जेडीयू संसद में अपना रुख साफ कर चुकी है. ऐसे में सवाल इस बात का उठता है कि अगर बीजेपी को लोकसभा चुनाव में पूरा बहुमत मिलता है तो क्या वह सहयोगी दलों को बाईपास कर इन मुद्दों पर फैसला करेगी या फिर अगर बहुमत नहीं मिला तो इन मुद्दों को वाजपेयी के दौर की तरह स्थगित कर दिया जाएगा.

केसी त्यागी का पूरा इंटरव्यू पढ़ें यहां क्लिक कर पढ़ें 


केसी त्यागी ने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी को अपनी विचारधारा प्रसारित और प्रचारित करने का पूरा अधिकार है. उसी तरह हमें समाजवादियों को भी असहमति रखने का पूरा अधिकार है. आर्टिकल 370 पर हमारी राय भिन्न है. यूनिफॉर्म सिविल कोड पर हम भिन्न हैं. अयोध्या विवाद सुप्रीम कोर्ट का फैसला माना जाए. हम कोई और फैसला स्वीकार नहीं. करते हैं. उस पर हमारी राय भिन्य है फिर भी हम साथ काम करते हैं.

बिहार में अपने नारे से पीछे क्यों हट रहे हैं मोदी?

आपको बता दें कि  पश्चिम बंगाल में रैली को संबोधित करते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह  ने कहा था कि बीजेपी की अगली सरकार बनाने के बाद उनकी पार्टी कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा देगी. 'उन्होंने कहा, ‘‘केन्द्र में भाजपा की अगली सरकार बनाने के बाद हम कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा देंगे.'' संविधान का अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देता है. शाह ने बनर्जी पर राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और नागरिक (संशोधन) विधेयक पर लोगों को भ्रमित करने का आरोप भी लगाया.

धारा 370 को हटाने की बात पर JDU बीजेपी के साथ नहीं​

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement