पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के मामले में आरोपी ऋषिकेश झारखंड में गिरफ्तार

आरोपी राजेश कुमार उर्फ ऋषिकेश देवदीकर को आज झारखंड के धनबाद जिले के कतरास में बेंगलुरु से आई एसआईटी की टीम ने पकड़ा

पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के मामले में आरोपी ऋषिकेश झारखंड में गिरफ्तार

पत्रकार गौरी लंकेश (फाइल फोटो).

खास बातें

  • ऋषिकेश आठ माह से नाम बदलकर कतरास में रह रहा था
  • एक पेट्रोल पंप पर केयर टेकर का काम कर रहा था आरोपी
  • सनातन संस्था के प्रदीप खेमका का है पेट्रोल पंप
धनबाद:

बेंगलुरु के चर्चित पत्रकार गौरी लंकेश (Gauri Lankesh) व तीन सामाजिक कार्यकर्ताओं की हत्या के आरोपी राजेश कुमार उर्फ ऋषिकेश देवदीकर को आज झारखंड के धनबाद जिले के कतरास में राजगढ़िया मार्केट में स्थित एक दुकान से गिरफ्तार कर लिया गया. बेंगलुरु एसआईटी की टीम मोबाइल लोकेशन को ट्रेस करते हुए यहां पहुंची. उक्त स्थान पर उसे पकड़ लिया गया. आरोपी भगत मोहल्ले में एक साल से नाम बदलकर रह रहा था. वह जिस मकान में रहता था वह मकान सनातन संस्था के प्रदीप खेमका का है. वह उन्हीं के यहां केयर टेकर का काम करता था. पुलिस ने आरोपी ऋषिकेश और खेमका से थाने में घंटों पूछताछ की. एसआईटी की टीम ने आरोपी का मेडिकल टेस्ट करवाया और धनबाद कोर्ट में पेश किया. ऋषिकेश को यह टीम बेंगलुरु ले जाएगी.

कन्नड़ पत्रकार गौरी लंकेश (Gauri Lankesh) की हत्या के मामले में ऋषिकेश देवदीकर को कतरास थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है. गौरी लंकेश की हत्या पांच सितंबर 2017 को बेंगलुरू में हुई थी. कतरास पुलिस की मदद से बेंगलुरु पुलिस के विशेष जांच दल (SIT) ने कतरास के भगत मोहल्ला से ऋषिकेश देवदीकर को गिरफ्तार किया.

ऋषिकेश देवदीकर यहां बड़े व्यवसायी प्रदीप खेमका के पेट्रोल पंप के केयरटेकर के रूप में अपनी पहचान छिपाकर करीब आठ महीने से काम कर रहा था, वह उन्हीं के एक पुराने घर में रहता था. देवदीकर महाराष्ट्र के औरंगाबाद का रहने वाला बताया जाता है. बेंगलुरु पुलिस आवश्यक कानूनी कार्रवाई करने के बाद ऋषिकेश को बेंगलुरु ले जाएगी.

महाराष्ट्र : नई सरकार में बाहर आएंगे बोतल में बंद जिन्न, क्या उद्धव सनातन संस्था पर पाबंदी लगाएंगे?

सूत्रों का कहना है कि एसआईटी की टीम यहां दो दिन से देवदीकर की तलाश में थी. 44 वर्षीय देवदीकर पांच सितंबर, 2017 से फरार था. 55 वर्षीय गौरी लंकेश (Gauri Lankesh) को उनके घर के सामने दक्षिण-पश्चिम उपनगर में गोली मार दी गई थी. इस मामले में यह 18वां आरोपी है. गौरी की हत्या में उसकी भूमिका की जांच की जा रही है.

सनातन संस्था के लोगों ने मारी गौरी लंकेश को गोली, 5 साल से रची जा रही थी हत्या की साजिश: SIT

गौरी लंकेश अपने दिवंगत पिता और प्रख्यात पत्रकार लंकेश द्वारा स्थापित साप्ताहिक कन्नड़ टैबलॉयड 'लंकेश पत्रिका' की संपादक थीं. इससे पहले उन्होंने 'संडे' पत्रिका में कर्नाटक की संवाददाता के रूप में और बेंगलुरु में 'द टाइम्स ऑफ इंडिया' के लिए काम किया था.

VIDEO : आरोपी का कथित कबूलनामा, हिंदू विरोधी होने के कारण गौरी लंकेश की हत्या

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



(इनपुट आईएएनएस से भी)