NDTV Khabar

अन्नाद्रमुक के दोनों गुटों में समझौते की संभावना बढ़ी, पलानीस्वामी और पनीरसेल्वम मिलेंगे

अन्नाद्रमुक (अम्मा) का प्रस्ताव है कि शशिकला की पार्टी महासचिव पद पर नियुक्ति नया प्रमुख चुने जाने तक के लिए थी

120 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अन्नाद्रमुक के दोनों गुटों में समझौते की संभावना बढ़ी, पलानीस्वामी और पनीरसेल्वम मिलेंगे

अन्नाद्रमुक के दोनों गुटों के बीच समझौता होने की संभावना फिर बन रही है.

खास बातें

  1. अन्नाद्रमुक के दोनों गुटों में समझौते की कोशिशें पहले सफल नहीं हुईं
  2. पहले विलय वार्ता के लिए गठित सात-सदस्यीय पैनल भंग हो गया था
  3. पन्नीरसेल्वम ने दूसरे गुट पर गैर-जिम्मेदाराना बयानों का आरोप लगाया था
नई दिल्ली: एआईएएडीएमके (अन्नाद्रमुक) के दो प्रतिद्वंद्वी गुटों के बीच फिर से साथ आने के लिए सैद्धांतिक रूप से सहमति बनने की संभावना है. सूत्रों के मुताबिक ई पलानीस्वामी और पनीरसेल्वम में जल्द ही मुलाकात होगी. इस मुलाकात के बाद ही इस बारे में कोई घोषणा हो सकती है.   

अन्नाद्रमुक (अम्मा) का प्रस्ताव है कि शशिकला की पार्टी महासचिव पद पर नियुक्ति नया प्रमुख चुने जाने तक के लिए थी. दोनों गुटों में एकीकरण के लिए पहले भी कोशिशें हुई थीं लेकिन कोई भी कोशिश सफल नहीं हुई. एक बार फिर अन्नाद्रमुक के दोनों गुटों ने समझौते के लिए कदम बढ़ाए हैं.   

यह भी पढ़ें : जब पूर्व सीएम पन्‍नीरसेल्वम के हवाई अड्डे पर पहुंचने से पहले चाकू लेकर आ गया एक व्यक्ति...

इससे पहले तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री तथा अन्नाद्रमुक (पुराची तलैवी अम्मा) कैंप के प्रमुख ओ पन्नीरसेल्वम ने मुख्यमंत्री पलानीस्वामी के नेतृत्व वाले प्रतिद्वंद्वी अन्नाद्रमुक (अम्मा) कैंप के साथ विलय वार्ता के लिए गठित सात-सदस्यीय पैनल को भंग करने की घोषणा की थी.

VIDEO : अलग-थलग परिवार


पन्नीरसेल्वम ने पार्टी पदाधिकारियों की एक बैठक में यह घोषणा की थी. कार्यकर्ताओं ने इस घोषणा का स्वागत किया था और वरिष्ठ सहयोगियों ने उन्हें बधाई दी थी. पन्नीरसेल्वम ने कहा था कि विपक्षी कैंप की ओर से तमाम तरह के गैर-जिम्मेदाराना बयानों को बर्दाश्त करने के बाद वह इस तरह की घोषणा करने को मजबूर हुए. उन्होंने कहा कि सभी वर्गों के लोग खासकर महिलाएं, छात्र और युवा विलय के विचार के विरोध में थे. उन्होंने कहा, 'ऐसी स्थिति में हमारे दल द्वारा विलय की बातचीत के लिए गठित पैनल को भंग किया जाता है.' इस पैनल का गठन अप्रैल माह में हुआ था.
(इनपुट एजेंसियों से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement