Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

यूपी : संघ ने मोदी विरोधी संजय जोशी को बीजेपी के लिए मुस्लिमों को रिझाने की सौंपी जिम्‍मेदारी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी : संघ ने मोदी विरोधी संजय जोशी को बीजेपी के लिए मुस्लिमों को रिझाने की सौंपी जिम्‍मेदारी

संजय जोशी की फाइल फोटो

लखनऊ :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के धुर विरोधी कहे जाने वाले भाजपा के पूर्व महामंत्री संजय जोशी को राष्‍ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने भाजपा के लिए मुस्लिमों को रिझाने की जिम्मेदारी सौंपी है। जोशी मुसलमानों से भाजपा के लिए समर्थन मांगने के लिए 7 जून को लखनऊ पहुंच रहे हैं। इस दौरान जोशी मुसलमानों तक केंद्र की मोदी सरकार के विकासपरक कार्यों को पहुंचाने का काम करेंगे। यही नहीं प्रधानमंत्री मोदी की सबका साथ-सबका विकास की नीति समझाने का काम उनकी टीम द्वारा किया जाएगा।

संघ से जुड़े एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया कि मोदी और जोशी का विवाद बहुत पुराना है। इसलिए संघ विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से दोनों के बीच की दूरियां खत्म करना चाह रहा है। उनका कहना है कि यदि इनकी दूरियां खत्म होती हैं तो इनकी योग्यता का पूरा लाभ संगठन और पार्टी को मिलेगा। बता दें कि जोशी इससे पहले भी मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के तहत झाड़ू लगा चुके हैं।

टिप्पणियां

जोशी लखनऊ में सात जून को संघ के आनुषांगिक संगठन मुस्लिम राष्ट्रीय मंच और राष्ट्रीय एकता मिशन के बैनर तले इस्तखबाले माहे रमजानुल मुबारक कार्यक्रम में मुख्य अतिथि की हैसियत से शामिल होंगे। कार्यक्रम हुसैनाबाद रोड स्थित सेहरा पैलेस में आयोजित किया गया है। साथ ही शाम को उनके साथ रोजा इफ्तार भी करेंगे। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के अवध प्रांत की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम के संयोजक सैयद हसन कौसर हैं।


लखनऊ में जोशी का व्यस्त कार्यक्रम है। वह सबेरे यहां आकर आईटी चैराहे के निकट रामाधीन उत्सव गेस्ट हाउस में अपने समर्थकों से मिलेंगे। यहां दोपहर 12 बजे वह अपने नाम से बनाए संजय भाई जोशी फैंस क्लब की ओर से आयोजित निरालानगर के सरनदास मंदिर में बड़े मंगल पर आयोजित भंडारे में भी हिस्सा लेंगे।



दिल्ली चुनाव (Elections 2020) के LIVE चुनाव परिणाम, यानी Delhi Election Results 2020 (दिल्ली इलेक्शन रिजल्ट 2020) तथा Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... हमारे देश में क़ानून का डर कितना बचा है?

Advertisement