NDTV Khabar

गोरक्षा के नाम पर हिंसा का समर्थन नहीं करता संघ : मनमोहन वैद्य

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य ने कहा है कि संघ किसी भी प्रकार की हिंसा में विश्वास नहीं रखता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गोरक्षा के नाम पर हिंसा का समर्थन नहीं करता संघ : मनमोहन वैद्य

संघ प्रमुख ने का कहना है कि गौरक्षा के नाम पर हिंसा करके संघ को बदनाम किया जा रहा है (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. तीन दिनों से चल रही है अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक
  2. इस साल संघ शिक्षा वर्ग में 23,223 शिक्षार्थियों ने भाग लिया
  3. आरएसएस किसी प्रकार की हिंसा का समर्थन नहीं करता है
नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य ने कहा है कि संघ किसी भी प्रकार की हिंसा में विश्वास नहीं रखता है. हर मुद्दे का आपसी बातचीत और शांति से हल निकालना चाहिए. गौरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा के सवाल पर उन्होंने कहा कि गौरक्षा का कार्य भारत में वर्षों से चल रहा है. संघ किसी प्रकार की हिंसा का समर्थन नहीं करता है और हिंसा करने वालों पर कानून के तहत कार्रवाई होनी चाहिए. इसके लिए संघ को बदनाम करने की कोशिश नहीं होनी चाहिए.

यह भी पढ़ें- आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने किया गोरक्षकों का बचाव

टिप्पणियां
जम्मू-कश्मीर मुद्दे संघ प्रमुख ने कहा कि आतंकवाद और अलगाववाद से सख्ती से निपटना चाहिए. इसमें किसी प्रकार का कोई समझौता नहीं होना चाहिए. जम्मू-कश्मीर में हिन्दू अल्पसंख्यक हैं और उन्हें अल्पसंख्यकों का दर्जा मिलना चाहिए, के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह चर्चा का विषय है और इस पर चर्चा होनी चाहिए.

वीडियो- नए लिबास में आरएसएस, हाफ पैंट की जगह अब से फुल पैंट जम्मू में बांग्लादेशियों की घुसपैठ को लेकर उन्होंने कहा कि संघ का शुरू से मानना है कि यह देश की सुरक्षा का मामला है और हर अवैध घुसपैठिए की पहचान होनी चाहिए और संबंधित देशों से बात कर उनकी वापसी करवाने के प्रयास होने चाहिए. इस पत्रकार वार्ता में जम्मू-कश्मीर के प्रांत संघचालक ब्रिगेडियर सुचेत सिंह भी उपस्थित थे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement