NDTV Khabar

सृजन घोटाला : बिहार विधानसभा में विपक्ष ने किया हंगामा

विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि सृजन घोटाला मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले से भी बड़ा है.

6 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सृजन घोटाला : बिहार विधानसभा में विपक्ष ने किया हंगामा

(फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सरकार गरीबों की बात सदन के अंदर और बाहर दबाना चाहती है.
  2. सरकार नियम के तहत किसी भी मामले को लेकर बहस करने को तैयार है.
  3. सृजन घोटाला मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले से भी बड़ा है.
पटना: बिहार विधानमंडल के दोनों सदनों विधानसभा और विधानपरिषद में मानसून सत्र के आखिरी दिन शुक्रवार को 'सृजन स्वयंसेवी घोटाले' को लेकर विपक्ष ने हंगामा किया. इसके बाद दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित कर दी गई. मॉनूसन सत्र के पांचवें और अंतिम दिन शुक्रवार को विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने सरकार पर सृजन घोटाले में आरोपियों को बचाने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया. 

विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि सृजन घोटाला मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले से भी बड़ा है. इसके आरोपियों की भी लगातार मौत हो रही है. इसके बाद राजद के सदस्य हंगामा करने लगे. 

यह भी पढ़ें : 1200 करोड़ रुपये के बिहार के सृजन घोटाले की जांच अब सीबीआई करेगी

संसदीय कार्यमंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि सरकार नियम के तहत किसी भी मामले को लेकर बहस करने को तैयार है. इस बीच विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने विपक्षी सदस्यों से प्रश्नोत्तर काल चलने देने की बात कही, परंतु विपक्ष कार्यस्थगन के तहत सृजन घोटाले पर बहस कराने की मांग को लेकर हंगामा करता रहा. इसके बाद अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी. 

यह भी पढ़ें : ऐसा कोई टकसाल नहीं जो मुझे खरीद सके: नीतीश कुमार

इधर, विधान परिषद में भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के इस्तीफे को लेकर विपक्ष ने हंगामा किया. हंगामे के कारण विधान परिषद की कार्यवाही अपराह्न 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई. पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा कि सरकार गरीबों की बात सदन के अंदर और बाहर दबाना चाहती है. उन्होंने कहा कि सृजन घोटाले को लेकर नीतीश और सुशील मोदी जब तक इस्तीफा नहीं देते तब तक सदन नहीं चलने दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं के पद पर रहते सृजन घोटाले की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती है. गौरतलब है कि पहले चार दिन भी सृजन और बाढ़ के मुद्दे को लेकर दोनों सदनों की कार्यवाही बाधित रही.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement