राहुल गांधी ने मोदी सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा तो समर्थन में आए सचिन पायलट, कह दी ये बात

मोदी सरकार (Modi Government) की नीतियों के खिलाफ राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को समर्थन देने के लिए सचिन पायलट (Sachin Pilot) भी उतर गए हैं. पायलट के अनुसार राहुल गांधी ने देश की अर्थव्यवस्था को लेकर जो सवाल खड़े किए हैं वो वाजिब हैं.

राहुल गांधी ने मोदी सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा तो समर्थन में आए सचिन पायलट, कह दी ये बात

सरकार देश की जनता का ध्यान, भारत और चीन के तनाव से भटकाने की कोशिश कर रही है: पायलट

जयपुर:

मोदी सरकार (Modi Government) की नीतियों के खिलाफ राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को समर्थन देने के लिए सचिन पायलट (Sachin Pilot) भी उतर गए हैं. पायलट के अनुसार राहुल गांधी ने देश की अर्थव्यवस्था को लेकर जो सवाल खड़े किए हैं वो वाजिब हैं. क्यों उद्योग बंद हो रहे हैं. बड़ी संख्या में लोगों की नौकरियां चली गई हैं. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने जिन मुद्दों को आवाज दी है वह बिल्कुल न्यायसंगत हैं. देश के सामने इस वक्त आर्थिक संकट पैदा हो गया है. उद्योग बंद हो रहे हैं और पूरे देश में लगभग 2.10 करोड़ लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है. जिनके पास नौकरियां हैं तो उनकी तनख्वाह में कटौती कर दी गई. 

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी का तंज- GDP में गिरावट, रोजाना कोविड के सबसे ज्यादा केस... लेकिन सरकार के लिए 'सब चंगा सी'

जयपुर में पत्रकारों से बात करते हुए सचिन पायलवट ने कहा कि चीन हमारी सीमा में दाखिल हो रही है. लेकिन सरकार देश की जनता का ध्यान, भारत और चीन के तनाव से भटकाने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि अगर सरकार चीन के खिलाफ कोई कदम उठाएगी तो पूरा देश उनका साथ देगा. इससे पहले राहुल गांधी ने कई ट्वीट्स के माध्यम से सरकार की नीतियों के चलते अर्थव्यवस्था पर मंडराते संकट के बादलों को लेकर सवाल किया था. 

Newsbeep

यह भी पढ़ें: संसद में रक्षा मामलों की बैठक में राहुल गांधी ने पूछा- जवानों और अधिकारियों का खाना अलग क्यों?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


राहुल गांधी ने शनिवार को अपने ट्वीट में लिखा, "कोविड के खिलाफ मोदी सरकार की 'सुनियोजित लड़ाई' ने भारत को रसातल में पहुंचा दिया है: जीडीपी में ऐतिहासिक 24 प्रतिशत की गिरावट, 12 करोड़ नौकरियां चली गईं, 15.5 लाख करोड़ रुपये का अतिरिक्त फंसा कर्ज, दुनिया भर में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले और मौतें. लेकिन भारत सरकार और मीडिया के लिए 'सब चंगा सी.'