NDTV Khabar

कर्नाटक में संतों ने कहा, लिंगायत विधायक कांग्रेस पार्टी छोड़े, ये है वजह

लिंगायत संतों ने कांग्रेस के लिंगायत विधायकों से पार्टी छोड़ने को कहा है क्योंकि उनके मुताबिक, जिसने लिंगायत आंदोलन को आगे बढ़ाया उसे ही पार्टी ने तरजीह नहीं दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कर्नाटक में संतों ने कहा, लिंगायत विधायक कांग्रेस पार्टी छोड़े, ये है वजह

कर्नाटक विधानसभा की फाइल फोटो

नई दिल्ली: लिंगायत संतों ने कांग्रेस के लिंगायत विधायकों से पार्टी छोड़ने को कहा है क्योंकि उनके मुताबिक, जिसने लिंगायत आंदोलन को आगे बढ़ाया उसे ही पार्टी ने तरजीह नहीं दी. ये वहीं संत है जिन्‍होंने विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस का समर्थन किया था. माता महादेवी की ही अगुवाई में लिंगायतों का एक बड़ा धड़ा हाल के चुनावों में बीजेपी छोड़ कांग्रेस के साथ आ खड़ा हुआ थी, लेकिन आज माता महादेवी नाराज़ है.

कांग्रेस ने जोर डालकर मुझे मुख्यमंत्री बनाया : कुमारस्वामी

लिंगायत संत माता महादेवी ने कहा कि एमबी पाटिल और उनके सभी साथियों को कांग्रेस छोड़ देनी चाहिए. इन लोगों ने लिंगायत आंदोलन चलाया, लेकिन इन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली ये लिंगायतों का अपमान है. माना जा रहा है कि वीरशैव लिंगायत महासभा के सबसे कद्दावर नेता और कांग्रेस विधायक शावनूर शिवशंकरप्पा लिंगायत नेताओं एमबी पाटिल और एचके पाटिल के ख़िलाफ़ रहे है. उनकी वजह से ही इन्हें मंत्री नहीं बनाया गया. 

Jayanagar Election Result : बीजेपी की एक और हार, कांग्रेस की सौम्या रेड्डी ने 3775 वोटों से दर्ज की जीत

वरिष्ठ कांग्रेस लिंगायत नेता एच के पाटिल ने कहा कि मैं वरिष्ठ हूं और मेरे समर्थक मानते हैं कि मैंने अच्छा काम किया है. ऐसे में वो नाराज़ है कि मुझे मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली. फिलहाल कुमारास्वामी मंत्रिमंडल में कांग्रेस की तरफ से 4 लिंगायत मंत्री हैं. इस महीने के आखिर में मंत्रिमंडल के एक और विस्तार हो सकता है. अभी से लिंगायत और मुस्लिम उपमुख्यमंत्री पद की मांग कर रहे हैं. तनाव इतना बढ़ गया है कि मुख्यमंत्री कुमारास्वामी भी कांग्रेस के नाराज़ लिंगायत नेताओं को मनाने में जुटे हैं. खतरा ये है कि 104 सीट जीतने वाली बीजेपी की नज़र लगातार जेडीएस और कांग्रेस के नाराज़ विधायकों पर है. 

टिप्पणियां
PM मोदी के फ़िटनेस चैलेंज पर कुमारस्वामी बोले, मुझे राज्य के विकास के फ़िटनेस की ज़्यादा चिंता

आपने एक अनार सौ बीमार वाली कहावत सुनी होगी. कुछ ऐसा ही कर्नाटक में हो रहा है. मंत्रिमंडल में कांग्रेस कोटे से 6 सीटें अब भी खाली हैं और ढाई दर्जन विधयाक मंत्री बनने का सपना देख रहे है और इसी वजह से खींचातान मची है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement