NDTV Khabar

सैम पित्रोदा ने बयान पर मांगी माफी, सफाई दी- हिंदी नहीं आने के कारण हो गई गड़बड़

कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा ने कहा कि सिख दंगों को लेकर वे '84 में हुआ तो हुआ' नहीं, बल्कि 'जो हुआ, बुरा हुआ' कहना चाहते थे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सैम पित्रोदा ने बयान पर मांगी माफी, सफाई दी- हिंदी नहीं आने के कारण हो गई गड़बड़

सन 1984 में सिखों के खिलाफ हुए दंगों को लेकर कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा ने अपने बयान पर माफी मांगी है.

खास बातें

  1. सन 1984 के सिख दंगों को लेकर सैम पित्रोदा के बयान पर हुई तीखी प्रतिक्रिया
  2. पित्रोदा ने कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर दिखाया गया
  3. बीजेपी ने सैम पित्रोदा के बयान की कड़ी आलोचना की थी
नई दिल्ली:

सन 1984 के सिख दंगों (Sikh Riots) को लेकर कांग्रेस (Congress) के नेता सैम पित्रोदा (Sam Pitroda) के बयान पर बवाल मचने के बाद उन्होंने माफी मांग ली है. पित्रोदा ने कहा है कि उनकी हिंदी खराब है. उन्होंने सफाई दी है कि वे 'जो हुआ वह बुरा हुआ' कहना चाहते थे. 'बुरा हुआ' का वे दिमाग में अनुवाद नहीं कर पाए. इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि उनके बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया.

सैम पित्रोदा (Sam Pitroda) ने कहा कि बीजेपी (BJP) सरकार ने क्या किया और क्या दिया? इस मुद्दे पर चर्चा करने को अन्य कई मुद्दे हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें खेद है कि उनकी टिप्पणी को गलत तरीके से पेश किया गया. पित्रोदा ने कहा कि 'मैं माफी मांगता हूं. इस मामले को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया गया.' पित्रोदा के सफाई देने से पहले कांग्रेस (Congress) ने भी अपनी ओर से इस मुद्दे पर सफाई दे दी है.

सन 1984 के सिख दंगों को लेकर कांग्रेस के नेता सैम पित्रोदा (Sam Pitroda) अपने एक बयान को लेकर विवादों में घिर गए हैं. बीजेपी ने गुरुवार को सैम पित्रोदा पर उनकी 1984 के सिख विरोधी दंगों पर कथित टिप्पणियों को लेकर निशाना साधा और माफी मांगने के लिए कहा. न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए एक बयान में पित्रोदा ने कहा, 'मैं इसके बारे में नहीं सोचता, यह भी एक और झूठ है. 1984 की बारे में अब क्या? आपने पिछले 5 साल में क्या किया, 84 में हुआ तो हुआ, आपने क्या किया?'


सिख दंगों पर बयान से बवाल : बीजेपी ने कहा, पित्रोदा को कांग्रेस निकाल बाहर करे; सोनिया और राहुल माफी मांगें

पित्रोदा (Sam Pitroda) के इस बयान पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पित्रोदा की टिप्पणियां "हैरान" करने वाली हैं और किसी को भी इसकी उम्मीद नहीं थी. जावड़ेकर ने कहा, "उन्होंने (पित्रोदा) कहा कि 1984 में नरसंहार हुआ. तो क्या? देश को यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है और हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते."

VIDEO : सिखों के खिलाफ हुए दंगों पर बयान देकर फंस गए पित्रोदा

बीजेपी नेता ने कांग्रेस पर लोगों की भावनाओं से खेलने का आरोप लगाया. जावड़ेकर ने कहा, "पित्रोदा राजीव गांधी के साथी और राहुल गांधी के गुरु हैं. अगर गुरु ऐसा है तो 'चेला' कैसा होगा? कांग्रेस यही कर रही है. पूरी तरह से जनता की भावनाओं के प्रति असंवेदनशील."

प्रधानमंत्री मोदी ने रोहतक की अपनी रैली में पित्रोदा के बयान को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "1984 में देश भर में हजारों सिख भाई-बहनों का कत्लेआम हुआ लेकिन आज कांग्रेस कह रही है जो हुआ सो हुआ."

टिप्पणियां

यह अहसास सबको है कि 84 की सिख विरोधी हिंसा अब भी एक बड़े समुदाय की दुखती रग है जिस पर कांग्रेस घिरी हुई है. इसलिए फौरन कांग्रेस ने और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने खुद को इस बयान से अलग कर लिया.
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, "यह समय बताएगा.  जांच होने दो कि 1984 में किसने क्या किया. लेकिन मोदी जी मुझे बता दें कि गोधरा में क्या हुआ, जब वे सीएम थे? क्या सीएम लॉ एंड आर्डर के लिए ज़िम्मेदार नहीं हैं?"

लेकिन हमले और सफ़ाई जारी हैं. सोशल मीडिया पर अरुण जेटली सहित कई बीजेपी नेताओं ने यह मसला उठाया तो कांग्रेस के नेता सफ़ाई देते दिखे. ख़ुद सैम पित्रोदा ने पहले ट्वीट किया और अब सीधे-सीधे कहा कि वे अपनी बात ठीक से नहीं रख पाए.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement