NDTV Khabar

सनातन संस्था के लोगों ने मारी गौरी लंकेश को गोली, 5 साल से रची जा रही थी हत्या की साजिश: SIT

पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड की जांच कर रही विशेष जांच दल (एसआईटी) ने बेंगलुरू की एक अदालत में एक अतिरिक्त आरोप पत्र दाखिल किया है और हिंदू सगंठन सनातन संस्था पर आरोप लगाया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सनातन संस्था के लोगों ने मारी गौरी लंकेश को गोली, 5 साल से रची जा रही थी हत्या की साजिश: SIT

गौरी की हत्या की साजिश पांच साल से रची जा रही थी : SIT

खास बातें

  1. सनातन संस्था के लोगों ने मारी गौरी लंकेश को गोली
  2. 5 साल से रची जा रही थी हत्या की साजिश
  3. एसआईटी ने अदालत में एक अतिरिक्त आरोप पत्र दाखिल किया है
बेंगलुरु:

पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड की जांच कर रही विशेष जांच दल (एसआईटी) ने बेंगलुरू की एक अदालत में एक अतिरिक्त आरोप पत्र दाखिल किया है और हिंदू सगंठन सनातन संस्था पर आरोप लगाया है. विशेष जांच दल ने प्रधान नागरिक और सत्र अदालत में शुक्रवार को नौ हजार 235 पन्नों का आरोप पत्र दाखिल किया है. आरोप पत्र में कहा गया है कि सतातन संस्था के भीतर एक नेटवर्क ने गौरी लंकेश को निशाना बनाया. इसमें यह भी कहा गया है कि गौरी की हत्या की साजिश पांच साल से रची जा रही थी. विशेष लोक अभियोजक एस बालन ने बताया, "मृतक और हत्यारे के बीच निजी या कोई अन्य रंजिश नहीं थी. उन्हें इसलिए मारा गया क्योंकि वह एक खास विचारधारा को मानती थीं, उसके बारे बोलती और लिखती थीं. इसलिए यह कोई विचारधारा और कोई संगठन होगा,"    

गौरी लंकेश हत्याकांड : आरोपी का सनसनीखेज दावा, पुलिस ने जुर्म स्वीकारने के लिए 25 लाख रुपये ऑफर किया


विशेष जांच दल ने इस मामले की जांच आगे भी जारी रखने की इजाजत मांगी है. इससे पहले मई में जांच दल ने सनसनीखेज मामले में पहला आरोप पत्र दाखिल किया था. वाम समर्थक और हिंदुत्व विरोधी विचारों के लिए जानी जाने वाली 55 वर्षीय लंकेश की पिछले साल पांच सितंबर को उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जिससे पूरे देश में रोष फैल गया था. इसके बाद सिद्धारमैया सरकार ने मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन किया था.    

Book Review: पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की वजहों और उनके व्यक्तित्व को खंगालती 'Illiberal India'

टिप्पणियां

एसआईटी के सूत्रों ने बताया कि इस मामले में अब तक शूटर परशुराम वाघमारे और हत्या के मास्टरमाइंड अमोल काले, सुजीत कुमार उर्फ प्रवीन और अमित देगवेकर समेत 18 लोग आरोपी हैं. इस गैंग पर बुद्धिजीवियों एम एम कलबुर्गी, नरेंद्र दाभोलकर और गोविंद पानसरे की हत्या में शामिल होने का भी संदेह है.

VIDEO: गौरी लंकेश की हत्या के तीन आरोपियों को 12 अक्टूबर तक हिरासत में भेजा


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement