मोदी सरकार के श्रम सुधार योजना को संघ परिवार से जुड़े इस संगठन ने किया खारिज

मोदी सरकार के श्रम सुधार की योजना पर संघ परिवार में अंदरूनी गतिरोध खुलकर सामने आ गया है.

मोदी सरकार के श्रम सुधार योजना को संघ परिवार से जुड़े इस संगठन ने किया खारिज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

मोदी सरकार के श्रम सुधार की योजना पर संघ परिवार में अंदरूनी गतिरोध खुलकर सामने आ गया है. आरएसएस से जुड़े भारतीय मज़दूर संघ ने देश के करीब 50 करोड़ मज़दूरों को सामाजिक सुरक्षा मुहैया करने के लिए श्रम मंत्रालय की प्रस्तावित सोशल सिक्योरिटी कोड के चौथे ड्राफ्ट (बीएमएस) को ख़ारिज कर दिया है. बीएमएस का मानना है कि इसमें संगठित और असंगठित क्षेत्र के मज़दूरों के लिए सामाजिक सुरक्षा के अलग-अलग पैमाने तय किए गए हैं जो उसे स्वीकार नहीं है.

केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों पर संघ परिवार से जुड़े संगठनों ने उठाए सवाल

हमने भारतीय मजदूर संघ के नेता गिरीश आर्य से सवाल पूछा कि आपको लगता है कि देश के सभी वर्करों को सामाजिक सुरक्षा के दायरे में लाने की सोच इस सोशल सिक्योरिटी कोड के ड्राफ्ट से कमज़ोर होती है? जवाब में उन्होंने कहा, 'श्रम मंत्रालय ने सोशल सिक्योरिटी फॉर ऑल के प्रिंसिपल को कमजोर कर दिया है. ड्राफ्ट सोशल सिक्योरिटी कोड में वर्कर्स का क्लासिफिकेशन किया गया है. हम इसके खिलाफ हैं. 

Newsbeep

आरएसएस से जुड़ा मजदूर संगठन भी मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों से नाराज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भारतीय मज़दूर संघ का ये भी मानना है की मौजूदा ईपीएफ और ईएसआई की व्यवस्था से किसी भी तरह का छेड़छाड़ उसे मंज़ूर नहीं है. उधर इस मसले पर लेफ्ट-समर्थित मज़दूर संघ सीटू भी भारतीय मज़दूर संघ के साथ खड़ा हो गया है. सीटू से जुड़े कंस्ट्रक्शन वर्कर्स फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने 5 दिसंबर को संसद मार्च का कॉल दिया है, जिस दौरान प्रस्तावित सोशल सिक्योरिटी कोड के खिलाफ एक करोड़ कंस्ट्रक्शन वर्करों के हस्ताक्षर लोकसभा स्पीकर को सौपें जाएंगे. साफ़ है कि सोशल सिक्योरिटी कोड के चौथे ड्राफ्ट के खिलाफ मज़दूर संघों के इस विरोध से निपटना सरकार के लिए आसान नहीं होगा.