यह ख़बर 24 नवंबर, 2011 को प्रकाशित हुई थी

अब मोदी के खिलाफ साराभाई का साथ देंगे संजीव भट्ट

अब मोदी के खिलाफ साराभाई का साथ देंगे संजीव भट्ट

खास बातें

  • गोधरा बाद दंगे की जांच करने वाले दो सदस्यीय न्यायिक पैनल के समक्ष भट्ट ने यह बात कही। पैनल साराभाई की याचिका पर सुनवाई कर रहा है।
अहमदाबाद:

निलंबित आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट ने गुरुवार को नानावती आयोग से कहा कि 2002 के दंगे के बाद सामाजिक कार्यकर्ता मल्लिका साराभाई की याचिका को कमजोर करने में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की भूमिका पर गवाही देने को तैयार हैं। गोधरा बाद दंगे की जांच करने वाले दो सदस्यीय न्यायिक पैनल के समक्ष भट्ट ने यह बात कही। पैनल साराभाई की याचिका पर सुनवाई कर रहा है। साराभाई ने अदालत की प्रक्रिया को कमजोर करने में मोदी की कथित भूमिका को लेकर भट्ट के साथ जिरह की मांग की। आयोग के समक्ष केंद्रीय राहत समिति के वकील बीएम मांगुकिया द्वारा 23 मई को पूछताछ में भट्ट ने आरोप लगाया था कि उच्चतम न्यायालय में दायर याचिका को मोदी ने कमजोर करने की कोशिश की थी। भट्ट ने कहा, मैंने अपनी इच्छा जताई है और साराभाई की 2002 की याचिका के संदर्भ में गवाही की इच्छा जाहिर की है। अगर आयोग सच्चाई जानना चाहता है तो वह कभी भी मुझे बुला सकता है। मोदी और उनके सहयोगियों की भूमिका के संबंध में भट्ट से जिरह के लिये साराभाई के आवेदन पर आयोग ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। मोदी और उनके सहयोगियों पर साराभाई की याचिका को स्थगित करने के लिये उनके वकील को रिश्वत देने का आरोप है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com