अरविंद केजरीवाल आखिर क्यों लाना चाहते हैं संजीव चतुर्वेदी को अपनी टीम में

अरविंद केजरीवाल आखिर क्यों लाना चाहते हैं संजीव चतुर्वेदी को अपनी टीम में

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

शुक्रवार को आम आदमी पार्टी के सूत्रों से खबर आई कि केजरीवाल बहुचर्चित आईएफएस अधिकारी और एम्स के सीवीओ रह चुके संजीव चतुर्वेदी को अपनी नई टीम में शामिल करना चाहते हैं।

चतुर्वेदी हरियाणा काडर के अफसर हैं और भ्रष्टाचार के कई मामलों की पोल खोलने और जांच करने के लिए सुर्खियों में रहे। हुड्डा सरकार से उनकी जमकर तनातनी हुई और बाद में कापी जद्दोजहद के बाद वह एम्स में सीवीओ के पद पर लाये गये।

पिछले साल डॉ हर्षवर्धन ने उन्हें जब इस पद से हटाया तो काफी विवाद हुआ। ये बात भी सामने आई कि बीजेपी के बड़े नेता और वर्तमान स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने खुद चतुर्वेदी को हटाने के लिए चिट्ठियां लिखी। एनडीटीवी इंडिया ने इन खबरों पर काफी करीबी से रिपोर्टिंग की।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उस वक्त से ही केजरीवाल लगातार कहते रहे हैं कि चतुर्वेदी को प्रताड़ित किया जा रहा है। अब खबर है कि केजरीवाल खुद चतुर्वेदी को दिल्ली के एंटी करप्शन डिपार्टमेंट का प्रमुख बनाना चाहते हैं। सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली चुनाव की वोटिंग के अगले दिन आम आदमी पार्टी के बड़े नेताओं के साथ बैठक में इस बात पर विचार हुआ। कांग्रेस और बीजेपी के कई बड़े नेता भ्रष्टाचार के मामलों में चतुर्वेदी के साथ उलझते रहे हैं। जब चतुर्वेदी हरियाणा से दिल्ली डेप्युटेशन पर आना चाहते थे तो बहुत सारे मंत्रालयों ने उनकी नियुक्ति को मंजूरी नहीं दी थी। चतुर्वेदी का रिकॉर्ड बताता है कि उन्होंने अपने सीनियर अधिकारियों और मंत्रियों को अपने बेबाक रवैये से काफी परेशान किया है।

माना जा रहा है कि उन्हें अपनी टीम शामिल कर राजनीतिक विरोधियों को पैगाम देना चाहते हैं कि वो ऐसे किसी अफसर को अपने साथ लेने में नहीं हिचकेंगे लेकिन सवाल ये है कि क्या केंद्र उनके तबादले को मंजूरी देगा।