NDTV Khabar

मथुरा में हेमा मालिनी के खिलाफ अगर सपना चौधरी उतरतीं तो किसका पलड़ा होता भारी?

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मशहूर हरियाणवी डांसर सपना चौधरी (Sapna Choudhary) ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. सपना चौधरी कांग्रेस में शामिल हो गई हैं और उन्हें इस चुनावी मैदान में दमखम दिखाने के लिए उतारा जा सकता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मथुरा में हेमा मालिनी के खिलाफ अगर सपना चौधरी उतरतीं तो किसका पलड़ा होता भारी?

Sapna Choudhary कांग्रेस में हुईं शामिल.

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elction 2019) की रणभेरी बज चुकी है और जैसे-जैसे चुनाव के दिन नजदीक आ रहे हैं, पार्टियों के बीच मुकाबला और भी दिलचस्प होते जा रहा है. एक ओर जहां बीजेपी सेलेब्रिटी-स्टार्स को अपनी पार्टी में शामिल करवा रही है, वहीं कांग्रेस भी इसमें पीछे नहीं है और वह भी सेलेब्रिटी-स्टार्स को अपनी पार्टी में शामिल करा रही है. लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मशहूर हरियाणवी डांसर सपना चौधरी (Sapna Choudhary) ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. सपना चौधरी कांग्रेस में शामिल हो गई हैं और उन्हें इस चुनावी मैदान में दमखम दिखाने के लिए उतारा जा सकता है. खास बात है कि सपना चौधरी के जिस सीट से चुनाव लड़ने की बात चल रही है, वह सीट काफी मशहूर एक्ट्रेस के कब्जे में है. यानी खबरों की मानें तो सपना चौधरी को उत्तर प्रदेश की मथूरा सीट से चुनाव लड़वाया जा सकता है, जिस सीट पर पहले सी बीजेपी नेता और अभिनेत्री हेमा मालिनी का कब्जा है.  हालांकि, शनिवार की देर रात कांग्रेस ने अपनी आठवीं सूची जारी की है, जिसके मुताबिक उसने मथुरा से महेश पाठक को अपना उम्मीदवार बनाया है. कांग्रेस ने मथुरा सीट से महेश पाठक के नाम का ऐलान कर सपना चौधरी के मथुरा से चुनाव लड़ने की अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश की है. 

दरअसल, शनिवार की देर शाम सपना चौधरी कांग्रेस में शामिल हुईं. इसके तुरंत बाद उनकी मुलाकात प्रियंका गांधी वाड्रा से हुई, जिसकी तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी. कांग्रेस के सूत्रों का मानना है कि मथूरा सीट पर कांग्रेस की नजर है और हेमा मालिनी की प्रसिद्धि को टक्कर देने के लिए सपना चौधरी का नाम माकूल है. यही वजह है कि सपना चौधरी ( Sapna Choudhary News) को कांग्रेस मथुरा (Mathura Seat) से हेमा मालिनी (Hema Malini) के खिलाफ मैदान में उतार सकती है. बता दें कि हेमा मालिनी को बीजेपी ने लगातार दूसरी बार मथुरा से मैदान में उतारा है. 


मथुरा सीट पर कांग्रेस की ओर से उम्मीदवार के नाम पर मुहर लगने के बाद भी सपना चौधरी के नाम पर कायासों का दौर जारी है. मथुरा से सपना चौधरी के चुनाव लड़ने की खबरों पर इसलिए भी विराम नहीं लग रहा क्योंकि इससे पहले भी कांग्रेस अपने उम्मीदवारों के नाम में बदलाव कर चुकी है. पहले मुरादाबाद से राज बब्बर के चुनाव लड़ने की बात थी, मगर बाद में कांग्रेस ने इमरान प्रतापगढ़ी को अपना उम्मीदवार बना दिया. इसलिए अभी मथुरा सीट पर भी कांग्रेस अपनी रणऩीति बदलती है तो इस पर कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए. 

माना जा रहा है कि कांग्रेस इसलिए भी सपना पर यह दांव लगाने को तैयार है क्योंकि हेमा मालिनी की लोकप्रियता को टक्कर देने में सपना चौधरी कारगर साबित हो सकती हैं. इसमें कोई दोराय नहीं कि मथूरा से हेमा मालिनी अगर सांसद बनी हैं तो इसके पीछे उनकी लोकप्रियता ही है. इसके अलावा हेमा मालिनी का यह दूसरा टर्म होगा, इसलिए सपना चौधरी भी अपनी लोकप्रियता का फायदा उठा सकती हैं और वह कांग्रेस के लिए यह सीट जीता भी सकती हैं. बता दें कि सपना चौधरी ने अपने डांस के कारण सोशल मीडिया पर लगातार धूम मचाई हुई हैं.

लोकसभा चुनाव 2014 में मथुरा सीट पर हेमा मालिनी को 50 फीसदी से अधिक वोट मिले थे. हेमा ने अजित चौधरी के बेटे जयंत को बड़े अंतर से हराया था. मथुरा लोकसभा में कुल 5 लोकसभा सीटें आती हैं. इनमें छाता, मांट, गोवर्धन, मथुरा और बलदेव की विधानसभा सीट शामिल हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश की इस सीट पर जाट और मुस्लिम वोटरों का वर्चस्व रहा है. 2014 में भी जाट और मुस्लिम वोटरों के अलग होने का नुकसान ही रालोद को भुगतना पड़ा था. जाटों ने एकमुश्त होकर बीजेपी के हक में वोट किया. 2014 के आंकड़ों के अनुसार मथुरा लोकसभा क्षेत्र में कुल 17 लाख मतदाता हैं, इनमें 9.3 लाख पुरुष और 7 लाख से अधिक महिला वोटर हैं.

हालांकि, हेमा मालिनी पहले राज्यसभा सांसद भी रह चुकी हैं. कुछ लोग पिछले चुनाव में उनकी जीत के पीछे मोदी लहर को भी बड़ा कारक मानते हैं. साथ ही साथ उनकी लोकप्रियता भी उनकी जीत में अहम रही है. लेकिन लोकप्रियता के पैमाने पर अगर फिलवक्त की बात करें तो सपना चौधरी काफी आगे निकल चुकी हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तो सपना चौधरी की धूम है. इसलिए अगर यहां मुकाबला सपना चौधरी बनाम हेमा मालिनी होता है तो सारा खेल पॉपुलारिटी पर ही टिका है.

टिप्पणियां

दरअसल, इससे एक दिन पहले पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे. केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली और रविशंकर प्रसाद की मौजूदगी में गौतम गंभीर ने भाजपा ज्वाइन की थी. ऐसी अटकलें हैं कि गौतम गंभीर को दिल्ली से चुनाव लड़ाया जा सकता है. 

VIDEO: बंटे विपक्ष का बीजेपी को मिलेगा फायदा?​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement