सऊदी अरब की कंपनी ने 1,600 भारतीयों को पहुंचाने के लिए निजी विमानों का किया इंतजाम

किसी निजी कंपनी द्वारा खाड़ी क्षेत्र से लोगों को उनके वतन पहुंचाने का यह सबसे बड़ा अभियान है. अभियान के तहत 9 उड़ानें भारत आएंगी . यह अभियान 11 जून को खत्म होगा .

सऊदी अरब की कंपनी ने 1,600 भारतीयों को पहुंचाने के लिए निजी विमानों का किया इंतजाम

कोच्चि:

सऊदी अरब की एक कंपनी ने अपने 1,600 से ज्यादा भारतीय कर्मचारियों को स्वदेश पहुंचाने के लिए निजी उड़ानों का परिचालन शुरू किया है . किसी निजी कंपनी द्वारा खाड़ी क्षेत्र से लोगों को उनके वतन पहुंचाने का यह सबसे बड़ा अभियान है.एक्सपर्टाइज कॉन्ट्रेक्टिंग कंपनी ने एक बयान में कहा है कि छह उड़ानें पांच जून को चेन्नई और हैदराबाद, छह जून को 
अहमदाबाद और दिल्ली तथा सात जून को चेन्नई पहुंच चुकी हैं. अभियान के तहत नौ उड़ानें भारत आएंगी . यह अभियान 11 जून को खत्म होगा . गल्फ एयर के विमान की सेवाएं ली गयी और सऊदी अरब के दम्मम से इसका परिचालन किया  गया.कंपनी के एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि भारतीय उपमहाद्वीप में विभिन्न देशों के कुल 2,000 कर्मचारियों को भेजा जा रहा है . इनमें 1,665 भारतीय हैं .


उन्होंने कहा कि भारतीय उपमहाद्वीप में लोगों को पहुंचाने की कवायद में 12 निजी विमानों की सेवा ली जा रही है . एक्सपर्टाइज कॉन्ट्रेक्टिंग कंपनी के निदेशक एस शेख ने बताया कि विभिन्न आपात जरूरतों को ध्यान में रखते हुए 2,000 से ज्यादा कर्मचारियों को उनके वतन पहुंचाने का फैसला किया गया.शेख ने दावा किया कि समूचे मध्य पूर्व में किसी निजी कंपनी द्वारा लोगों को पहुंचाने का यह सबसे बड़ा अभियान है. यात्रियों का किराया, पृथक-वास में रहने का खर्च, विमान पर होने वाला खर्च कंपनी ने वहन किया है.

Newsbeep


उन्होंने अभियान में सहायता के लिए सऊदी अरब, भारत तथा अन्य देशों की सरकारों और मंत्रालयों तथा मिशनों का  शुक्रिया अदा किया है .शेख ने कहा कि जरूरत पड़ने पर और उड़ानों की व्यवस्था की जाएगी और महामारी खत्म होने तथा हालात ठीक हो जाने पर उन सबको कार्यस्थल पर नि:शुल्क पहुंचाया जाएगा.उन्होंने कहा कि जिन कर्मचारियों को पहुंचाने की व्यवस्था की गयी उनमें से कुछ के परिवार में गभर्वती महिलाएं थीं. ऐसे भी लोग थे जिनको चिकित्सा की जरूरत थी.
 

विदेश में फंसे भारतीयों के लिए सरकार का 'वंदे भारत मिशन'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)