SBI के चेयरमैन का बयान- प्रधानमंत्री जनधन खातों में जमा हुए 260 अरब रुपये

आपको बता दें कि बीते सितंबर महीने में केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री जनधन योजना (पीएमजेडीवाई) को अनिश्चित काल तक के लिए जारी रखने को मंजूरी प्रदान की है.

SBI के चेयरमैन का बयान- प्रधानमंत्री जनधन खातों में जमा हुए 260 अरब रुपये

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के चेयरमैन का कहना है, "प्रधानमंत्री जनधन योजना में एक साल के भीतर निम्न आयवर्ग के 30 करोड़ लोगों को बैंकिंग व्यवस्था में शामिल किया गया है. इस तरह के कुल खातों में से 32 फीसदी SBI के पास हैं. प्रधानमंत्री जनधन योजना (PMJDY) के तहत कुल 260 अरब रुपये जमा कराए गए हैं, और इसका औसत 1,800 रुपये प्रति खाता है, तथा इससे SBI को लाभ मिलना शुरू हो गया है​. आपको बता दें कि सिंगापुर में प्रधानमंत्री मोदी ने भी जनधन योजना की तारीफ करते हुए कहा है कि जनधन योजना के जरिये, हमने हर भारतीय के बैंक खाते का लक्ष्य बनाया. तीन साल में, हमने 33 करोड़ नये बैंक खाते खोले. ये पहचान, गरिमा और अवसर के 33 करोड़ स्रोत हैं. 2014 में 50 प्रतिशत से भी कम भारतीयों के खाते थे लेकिन अब यह लगभग सार्वभौमिक है.​

राफेल और नोटबंदी को लेकर CAG की चुप्पी पर 60 रिटायर्ड अफसरशाहों ने उठाए सवाल

आपको बता दें कि बीते सितंबर महीने में केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री जनधन योजना (पीएमजेडीवाई) को अनिश्चित काल तक के लिए जारी रखने को मंजूरी प्रदान की है. साथ ही, इसके दायरे में विस्तार करते हुए दुर्घटना बीमा को दोगुना और उम्र की सीमा में पांच साल की छूट दी गई है. ​

चलती ट्रेन की छत काटकर लूटे 5.78 करोड़, लेकिन हो गई नोटबंदी

जनधन योजना के नए अवतार में अब ओवरड्राफ्ट की सुविधा के लिए खाताधारक की उम्रसीमा 18-65 साल है. पूर्व में अधिकतम उम्र सीमा 60 साल थी. पहले ओवरड्राफ्ट की सीमा 5,000 रुपये थी जिसे बढ़ाकर 10,000 रुपये कर दी गई है. साथ ही, 2,000 रुपये के ओवरड्राफ्ट के लिए कोई शर्त नहीं है. ​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



पी. चिदंबरम का आरोप, वित्तीय दिक्कतों से जूझ रही मोदी सरकार RBI का पैसा हड़पना चाहती है

सरकार की ओर से जारी बयान के मुताबिक, जनधन योजना के तहत 28 अगस्त के बाद खाता खोलने पर दुर्घटना बीमा की कवर नए रुपे कार्ड धारकों के लिए एक लाख रुपये से बढ़ाकर दो लाख रुपये कर दी गई. सरकार के आंकड़ों के अनुसार, अब तक 32.41 करोड़ जनधन खाते खोले गए हैं, जिनमें 81,200 करोड़ रुपये की जमा राशि है.  जनधन खाताधारकों में 53 फीसदी खाताधारक महिलाएं हैं और 59 फीसदी खाताधारक ग्रामीण व अर्धशहरी इलाकों के हैं. असम, मेघालय और जम्मू-कश्मीर को छोड़ बाकी राज्यों में 83 फीसदी से अधिक सहकारी खाते आधार कार्ड से जुड़े हुए हैं और इन खाताधारकों में करीब 24.4 करोड़ खाताधारकों को रुपे कार्ड जारी किए गए हैं.