Exclusive : देशभर में SBI के कितने एटीएम, बैंक को भी नहीं पता है

एक आरटीआई में SBI से देशभर में लगी बैंक की ATM मशीनों का ब्योरा मांगा गया था, लेकिन बैंक की तरफ से कहा गया कि उनके पास इसकी सूचना ही उपलब्ध नहीं है.

Exclusive :  देशभर में SBI के कितने एटीएम, बैंक को भी नहीं पता है

SBI के पास गार्ड की सैलरी पर खर्च पैसों का भी ब्योरा नहीं है. (प्रतिकात्मक चित्र)

खास बातें

  • स्टेट बैंक से आरटीआई के तहत मांगी गई थी सूचना
  • बैंक ने कहा, उनके पास उपलब्ध नहीं है सूचना
  • गार्ड की सैलरी पर खर्च हुए पैसों की भी नही है जानकारी
नई दिल्ली :

पीएनबी घोटाले के बाद बैंकों में धोखाधड़ी का मुद्दा जोरशोर से गरमाया. बैंक खातों से लेकर एटीएम फ्रॉड जैसे मुद्दों पर खूब चर्चा हुई, लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (स्टेट बैंक ऑफ इंडिया) को यही नहीं पता है कि देशभर में बैंक के कुल कितने एटीएम हैं. दरअसल, एक आरटीआई में SBI से देशभर में लगी बैंक की ATM मशीनों का ब्योरा मांगा गया था, लेकिन बैंक (SBI) की तरफ से कहा गया कि उनके पास इसकी सूचना ही उपलब्ध नहीं है. चौंकाने वाली बात यह है कि बैंक को यह भी नहीं पता है कि पिछले 5 वित्तीय वर्षों में एटीएम में तैनात सुरक्षा गार्डों की सैलरी और भत्ते पर कितने पैसे खर्च हुए. 

वेतन तय, लेकिन खर्च कितने हुए, पता नहीं
स्टेट बैंक के मुताबिक एटीएम में तैनात प्राइवेट गार्ड को बी और सी कैटेगरी के तहत निर्धारित वेतन दिया जाता है. आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में बैंक ने यह भी बताया है कि बी कैटेगरी में आने वाले गार्ड को 22182 और सी कैटेगरी में आने वाले गार्ड को 18925 रुपये भुगतान किया जाता है. हालांकि एसबीआई ने पिछले 5 वित्तीय वर्षों में प्राइवेट गार्ड की सैलरी या भत्ते पर कितने पैसे खर्च किये, इसका कोई ब्योरा ही नहीं है. SBI का कहना है कि उनके पास इसकी सूचना ही उपलब्ध नहीं है. 

ih545tb

एटीएम में गार्ड हैं भी या नहीं, बैंक को पता नहीं 
एसबीआई से जब पूछा गया कि वर्तमान में बैंक के ऐसे कुल कितने एटीएम हैं जहां गार्ड तैनात हैं, तो बैंक की तरफ से इसका भी कोई जवाब नहीं मिला. इसके अलावा बैंक में पिछले 10 वर्षों के दौरान कब-कब गार्ड तैनात किये गए, इसकी भी बैंक को कोई जानकारी नहीं है. आपको बता दें कि नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जैसे मामलों के बाद भी बैंकों में धोखाधड़ी के मामले नहीं रुके है. खुद पीएनबी में ही वित्तीय वर्ष यानी 2018-19 की पहली छमाही में ही पीएनबी के 1500 करोड़ रुपए से ज्यादा धोखाधड़ी की भेंट चढ़ गए. पीएनबी (Punjab National Bank) ने एक RTI के जवाब में बताया है कि अप्रैल 2018 से लेकर सितंबर 2018 तक बैंक में फ्रॉड की 115 घटनाएं सामने आईं और इन घटनाओं में बैंक के 1523.03 करोड़ रुपये डूब गए. 

Newsbeep

यह भी पढ़ें : PNB में फिर सैकड़ों करोड़ का घपला, नीरव मोदी केस से भी नहीं चेता बैंक प्रबंधन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: PNB घोटाले पर मेहुल चौकसी की सफाई