Shehla Rashid Tweet: कश्मीर के हालातों पर दावा करके फंसी शेहला रशीद, फर्जी खबरें फैलाने को लेकर आपराधिक शिकायत दर्ज

Shehla Rashid: जेएनयू की पूर्व छात्रा और कश्मीरी नेता शेहला रशीद ने घाटी में अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर के हालातों को लेकर ट्वीट किए.

Shehla Rashid Tweet: कश्मीर के हालातों पर दावा करके फंसी शेहला रशीद, फर्जी खबरें फैलाने को लेकर आपराधिक शिकायत दर्ज

Shehla Rashid Twitter: भारतीय सेना ने शेहला के दावे को किया खारिज

खास बातें

  • शेहला राशिद ने कई ट्वीट्स कर कश्मीर में हालात खराब होने के लगाए आरोप
  • SC के वकील ने शेहला के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई, गिरफ्तारी की मांग
  • JNU की रिसर्च स्कॉलर हैं शेहला राशिद
नई दिल्ली:

जेएनयू की पूर्व छात्रा और कश्मीरी नेता शेहला रशीद (Shehla Rashid) ने घाटी में अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर के हालातों को लेकर ट्वीट किए. शेहला ने ट्विटर के माध्यम से दावा किया कि भारतीय सेना द्वारा घाटी के लोगों पर अत्याचार किए जा रहे हैं. शेहला ने एक के बाद एक करते हुए लगातार 10 ट्वीट किए, जिसके बाद भारतीय सेना रशीद के सभी दावों को खारिज करते हुए इसे फेक न्यूज करार दिया. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार भारतीय सेना सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है. भारतीय सेना ने कहा कि कुछ आसामाजिक तत्व और संगठन नफरत भरी खबरों को फैलाकर लोगों को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं. 

शाहरुख खान को आई फोन कॉल, लेकिन फिर भी नहीं मिला काम...देखें Video

इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने शेहला रशीद के खिलाफ एक आपराधिक शिकायत दायर की, जिसमें कथित तौर पर भारतीय सेना और भारत सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलाने के आरोप में उनकी गिरफ्तारी की मांग की गई है.

UPA के शासनकाल में एयर इंडिया के लिए 111 विमानों के सौदे में पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम को ED का समन

बता दें कि शेहरा रशीद जेएनयू की छात्रा रही हैं और साल 2015-16 में छात्रसंघ की उपाध्यक्ष भी बनी थी. हाल ही में शेहरा शाह फैसल की पार्टी जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट से जुड़ गई थीं. यह वही शाह फैसल हैं जिन्हें दिल्ली के एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था, जो इंस्ताबुल जाने की फिराक में थे. शाह फैसल ने भी घाटी से अनुच्छेद 370 हटाने जाए को असंवैधानिक करार दिया था.

जम्मू-कश्मीर के हालात को लेकर NSA अजित डोभाल और IB चीफ से मिले गृहमंत्री अमित शाह

गौरतलब है केन्द्र सरकार के पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाने के बाद से श्रीनगर के जिन इलाकों में शांति कायम रही वहां से पुलिस ने अवरोधक हटा दिए हैं. घाटी में बाजार बंद रहे और सार्वजनिक परिवहन भी सड़कों से गायब रहे. प्रतिबंधों में ढील के बाद से शहर में निजी वाहनों की आवाजाही बढ़ी है.

Newsbeep

इनपुट- ANI 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: उमर खालिद को कौन गोली मारना चाहता है?