जज बीएच लोया की मौत के मामले की जांच कराने की याचिकाओं पर आज SC में सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने 22 जनवरी की आखिरी सुनवाई के दौरान याचिकाओं में उठाए गए मुद्दों को गंभीर बताया था लेकिन मामले में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर आरोप लगाने पर वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे को फटकार लगाई थी. न्यायालय ने वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह के प्रति भी नाराजगी जताई थी जिन्होंने मीडिया संबंधी अपना बयान बाद में वापस ले लिया था.

जज बीएच लोया की मौत के मामले की जांच कराने की याचिकाओं पर आज SC में सुनवाई

फाइल फोटो

खास बातें

  • सोहराबुद्दीन एन्काउंटर मामले की सुनवाई कर रहे थे जज लोया
  • नागपुर में शादी के दौरान हुई थी मौत
  • याचिकाओं में मौत को नहीं माना गया है प्राकृतिक
नई दिल्ली:

विशेष सीबीआई जज बीएच लोया  की कथित तौर पर रहस्यमय परिस्थितियों में हुई मौत की एक स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिकाओं पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी. बीएच लोया सोहराबुद्दीन एन्काउंटर मामले की  सुनवाई कर रहे थे. लोया की एक दिसंबर 2014 को नागपुर में दिल का दौरा पड़ने पर मृत्यु हो गई थी. उस वक्त वह एक सहकर्मी की बेटी की शादी में शरीक होने गए थे. सुप्रीम कोर्ट ने 22 जनवरी की आखिरी सुनवाई के दौरान याचिकाओं में उठाए गए मुद्दों को गंभीर बताया था लेकिन मामले में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर आरोप लगाने पर वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे को फटकार लगाई थी. न्यायालय ने वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह के प्रति भी नाराजगी जताई थी जिन्होंने मीडिया संबंधी अपना बयान बाद में वापस ले लिया था.

यह भी पढ़ें : नागपुर पुलिस का दावा, जज लोया की मौत हार्ट अटैक से हुई, पोस्टमॉर्टम और फोरेसिंक रिपोर्ट में भी वही बात

वहीं राजनीतिक पार्टियां और प्रमुख रूप से कांग्रेस लोया की मौत के मुद्दे को जोरशोर से उठा रही हैं और एक स्वतंत्र जांच की मांग कर रही है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO : जज लोया मामले में अब CJI करेंगे फैसला
 आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में लंबित दो याचिकाएं कांग्रेस नेता तहसीन पूनावाला और महाराष्ट्र के पत्रकार बीएस लोन ने दायर की हैं. बाद में पूर्व नौसेना प्रमुख एल रामदास ने एक अर्जी दायर कर उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीशों और पूर्व पुलिस अधिकारियों की एक समिति द्वारा स्वतंत्र जांच कराने की मांग की थी.