NDTV Khabar

छात्रवृत्ति घोटाला: गरीब छात्रों की छात्रवृत्ति खा रहे थे अधिकारी और बैंकर, कई राज्यों में हुआ खुलासा

सीबीआई के सूत्रों ने खुलासा किया कि गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) परिवारों के लिए छात्रवृत्ति फंड में घोटाले के तार हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब तक फैले हुए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
छात्रवृत्ति घोटाला: गरीब छात्रों की छात्रवृत्ति खा रहे थे अधिकारी और बैंकर, कई राज्यों में हुआ खुलासा

खास बातें

  1. छात्रवृत्ति फंड में घोटाले के तार हिमाचल, हरियाणा और पंजाब तक फैले
  2. घोटाला बड़े पैमाने पर हुआ, उत्तराखंड और उत्तरप्रदेश से भी आए मामले
  3. प्रमाणित दस्तवाजों और पतों के आधार पर फर्जी बैंक खाते खुलवाए गए
नई दिल्ली:

करोड़ों रुपये के छात्रवृत्ति घोटाले के संबंध में केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की शुरुआती जांच से सरकारी अधिकारियों, निजी संस्थानों और सार्वजनिक सेक्टर के बैंकों के बीच गरीब छात्रों के लिए जारी फंड खा जाने के मामले में गहरे गठजोड़ का पता चला है. इस वजह से अनुसूचित जाति और अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र भी बेसिक शिक्षा के लिए मिलने वाली छात्रवृत्ति से वंचित हो रहे हैं. सीबीआई के सूत्रों ने आईएएनएस से खुलासा किया कि गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) परिवारों के लिए छात्रवृत्ति फंड में घोटाले के तार हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब तक फैले हुए हैं.

हिमाचल प्रदेश के 250 करोड़ रुपये के स्कॉलरशिप घोटाले की जांच शुरू


हालांकि सीबीआई की शिमला शाखा द्वारा क्षेत्र में जांच की संभावना सीमित है. सूत्रों ने कहा कि घोटाला बड़े पैमाने पर हुआ है और इसी तरह की शिकायत उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश और देश के अन्य भागों से मिली है. सीबीआई के उच्च पदस्थ सूत्र ने कहा, "गरीब और एससी/एसटी छात्रों के हित में, अगर अन्य राज्य इसकी हमसे जांच कराने की अनुशंसा करेंगे तो एजेंसी ऐसे कई मामलों की जांच कर सकता है."

अल्पसंख्यकों के लिए PM मोदी का तोहफा: अगले 5 सालों में 5 करोड़ छात्रों के लिए स्कॉलरशिप, आधी होंगी लड़कियां

एजेंसी ने खुलासा किया कि लवली प्रोफेशनल विश्वविद्यालय और कर्नाटक विश्वविद्यालय ने हिमाचल प्रदेश जैसे अन्य राज्यों में अपने केंद्र स्थापित किए हैं, जहां एससी/एसटी और बीपीएल छात्रों के दस्तावेज ले लिए जाते हैं लेकिन दाखिला नहीं दिया जाता है. बाद में शिक्षा विभाग और बैंक के अधिकारियों की मिलीभगत से, सरकार द्वारा प्रमाणित वास्तविक दस्तवाजों और पतों के आधार पर फर्जी बैंक खाते खुलवाए जाते हैं.

उदाहरण के लिए, हिमाचल के कांगड़ा के देहड़ी गांव के करीब 250 छात्रों ने इन केंद्रों पर दाखिले के लिए आवेदन किया. इन संस्थानों ने छात्रों से दस्तावेज ले लिए लेकिन उन्हें दाखिला नहीं दिया. उसी प्रकार, छात्रों द्वारा दाखिल किए गए दस्तावेजों के आधार पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और इलाहबाद बैंक में बड़ी संख्या में फर्जी खाते खोले गए हैं और बैंक अधिकारी खाताधारकों के खाते का सत्यापन ना कर इन घोटालेबाजों को छात्रवृत्ति का पैसा गटक जाने का मौका देते हैं.

शपथ लेने के एक दिन बाद PM मोदी का पहला बड़ा फैसला, राष्ट्रीय रक्षा कोष की छात्रवृत्ति बढ़ाई

टिप्पणियां

बीते महीने, सीबीआई ने प्री और पोस्ट-मैट्रिक छात्रवृत्ति से संबंधित 250 करोड़ रुपये के घोटाले के संबंध में उत्तरी भारत में कई ठिकानों पर छापे मारे थे. सीबीआई अधिकारियों ने पंजाब, हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़ और हरियाणा के 22 शैक्षणिक संस्थानों पर छापे मारे थे.

सीबीआई के अलावा, उत्तराखंड और उत्तरप्रदेश पुलिस भी छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रही है, जहां शिक्षा विभाग और निजी संस्थान के अधिकारी के हाथ भी इन घोटाले से रंगे नजर आए. उत्तर प्रदेश में अल्पसंख्यक विभाग से संबंधित घोटाले में गरीब मुस्लिम छात्रों की छात्रवृत्ति भ्रष्ट अधिकारी धोखाधड़ी करके डकार गए. (इनपुट:आईएएनएस)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement