NDTV Khabar

एसबीआई के बचत खातों और एफडी पर ब्याज दर घटाने से सीनियर सिटीजन सबसे अधिक नाखुश

उम्र के इस पड़ाव पर कमाई का कोई दूसरी ज़रिया नहीं बचा, बुजुर्ग चाहते हैं कि एसबीआई अपने फैसले पर पुनर्विचार करे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

सेविंग एकाउंट और एक से दो साल तक के फिक्स डिपॉज़िटों पर ब्याज़ दर घटाने के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के फैसले से सबसे ज़्यादा निराश सीनियर सिटिज़न हैं. जिनके पास उम्र के इस पड़ाव में कमाई का कोई दूसरी ज़रिया नहीं बचा है. वो चाहते हैं कि एसबीआई अपने फैसले पर पुनर्विचार करे.

आरसी कपूर अपनी पत्नी सुदेश के साथ पांच दशक से ज़्यादा समय से दिल्ली में रह रहे हैं. दोनों के एकाउंट स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की पार्लियामेंट स्ट्रीट ब्रांच में हैं. दोनों निराश हैं कि एसबीआई ने एक लाख तक के सेविंग एकाउंट के लिए ब्याज दर 3.5% से घटाकर 3.25% कर दी है. महंगाई दर इतनी ज़्यादा है कि बैंक में रखा ये पैसा अब बढ़ने के बजाय घटने लगा है. जीवन के इस पड़ाव में कमाई का कोई दूसरा ज़रिया भी नहीं. आरसी कपूर कहते हैं कि एसबीआई को अपने फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए.

सीनियर सिटिज़न सुदेश ने कहा कि ज़रूरत का सामान महंगा होता जा रहा है. प्याज़, टमाटर...घर चलाना मुश्किल हो रहा है. एनडीटीवी को एसबीआई के दफ्तर के बाहर निराश खड़े 86 साल के स्वर्णलाल कश्यप भी मिले. वे कहते हैं कि उनके जैसे सीनियर सिटीज़न के लिए ब्याज दर का घटना दोहरी मार के बराबर है.


  SBI ने सेविंग अकाउंट और FD पर ब्याज दरें घटाईं

एसबीआई ने बुधवार को ऐलान किया कि एक लाख तक के सेविंग एकाउंटों के लिए ब्याज दर 3.5% से घटाकर 3.25% कर दी गई है. और एक से दो साल तक के फिक्स्ड डिपॉज़िट पर ब्याज दर 7% से घटाकर 6.9% कर दी गई है.

6 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 50,580 करोड़ रुपये बढ़ा, SBI और ICICI बैंक को सर्वाधिक लाभ

एसबीआई के अधिकारी कहते हैं कि ब्याज दर बाज़ार के हालात और बैंक की लिक्विडिटी के आधार पर तय की गई है. एक ऐसे समय जब बाज़ार गिर रहा हो, अर्थव्यवस्था सुस्ती से मंदी की तरफ़ बढ़ती लग रही हो तो बैंक में सुरक्षित समझकर रखा गया पैसा भी धीरे-धीरे घटता जा रहा है. जिन बुज़ुर्गों की ज़िंदगी भर की कमाई बैंक में रखा पैसा ही है, वे अब कहां जाएं, किससे फ़रियाद करें.

टिप्पणियां

VIDEO : आम खाताधारकों को नुकसान



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement