NDTV Khabar

RSS के वरिष्ठ नेता ने कहा- इस्लाम के आने से हुई छुआछूत की शुरुआत, प्राचीन भारत में गौमांस खाने वालों को माना जाता था अछूत

आरएसएस के वरिष्ठ नेता कृष्ण गोपाल ने सोमवार को दावा किया कि भारत में छुआछूत की शुरुआत इस्लाम की शुरुआत से हुई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
RSS के वरिष्ठ नेता ने कहा- इस्लाम के आने से हुई छुआछूत की शुरुआत, प्राचीन भारत में गौमांस खाने वालों को माना जाता था अछूत

RSS के वरिष्ठ नेता ने कहा- इस्लाम के आने से हुई छुआछूत की शुरुआत

खास बातें

  1. RSS के वरिष्ठ नेता ने कहा- इस्लाम के आने से हुई छुआछूत की शुरुआत
  2. 'प्राचीन भारत में गौमांस खाने वालों को माना जाता था अछूत'
  3. 'ब्रिटिश शासन फूट डालने के लिए लाया दलित का कॉन्सेप्ट'
नई दिल्ली:

आरएसएस के वरिष्ठ नेता कृष्ण गोपाल (Krishna Gopal) ने सोमवार को दावा किया कि भारत में छुआछूत की शुरुआत इस्लाम की शुरुआत से हुई. उन्होंने यह भी कहा कि दलित का कॉन्सेप्ट ब्रिटिश शासन द्वारा फूट डालने और राज करने के लिए लाया गया था. उन्होंने कहा, 'पहली बार छुआछूत का मामला इस्लाम के आने के बाद देखा गया.' उन्होंने अपनी बात को साबित करने के लिए सिंध के आखिरी हिंदू राजा दाहिर के परिवार की कहानी का भी जिक्र किया. जो जौहर करने जा रहा था और उसने सबसे पहले 'मलिच्छा' शब्द का प्रयोग करते हुए कहा था कि उन्हें(परिवार) जल्द जौहर करना होगा वर्ना 'मलिच्छा' उनको छू लेंगे और वह अपवित्र हो जाएंगी. उन्होंने यह भी कहा, 'गौमांस सेवन करने वाले लोगों को प्राचीन भारत में अस्पृश्य  करार दिया जाता था और ''दलित'' शब्द प्राचीन भारतीय साहित्य में मौजूद नहीं था.'

सालों की मेहनत से पूर्वोत्तर में आया बदलाव : भागवत


राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के संयुक्त महासचिव कृष्ण गोपाल ने पुस्तकों के विमोचन कार्यक्रम के दौरान कहा कि संविधान सभा ने भी ''दलित'' की जगह ''अनुसूचित जाति'' शब्द का इस्तेमाल किया. उन्होंने कहा कि यह अंग्रेजों की साजिश थी कि दलित शब्द (समाज में) धीरे-धीरे प्रसारित होता गया.
 
आरएसएस नेता ने ''भारत का राजनीतिक उत्तरायण'' और ‘भारत का दलित विमर्श' पुस्तकों का विमोचन किया. कार्यक्रम में संस्कृति और पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल भी उपस्थित थे. गोपाल ने कहा, ‘‘भारत में अस्पृश्यता का पहला उदाहरण तब आया जब लोग गाय का मांस खाते थे, वे ‘अनटचेबल' घोषित हुए. ये स्वयं (बी आर) आंबेडकर जी ने भी लिखा है.''

मोहन भागवत के बयान पर तेजस्वी यादव ने साधा निशाना, कहा- आरक्षित वर्ग के लिए खाली पड़े पदों पर करिए बहस

उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे यह समाज में प्रसारित होता गया और समाज के एक बड़े हिस्से को अस्पृश्य करार दिया गया. लंबे समय तक उनका उत्पीड़न और अपमान किया गया. गोपाल ने कहा कि रामायण लिखने वाले महर्षि वाल्मीकि दलित नहीं थे, बल्कि शूद्र थे, और कई महान ऋषि भी शूद्र थे और उनका बहुत सम्मान किया जाता था.

टिप्पणियां

VIDEO : संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा, आरक्षण पर विवाद का हल निकाला जाए



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement