सरकार ने 200 रु. प्रति डोज की दर से 1.1 करोड़ ऑक्‍सफोर्ड वैक्‍सीन खरीदने का दिया ऑर्डर

Oxford Vaccine Price: DCGI ने जिन दो टीकों के उपयोग की मंजूरी दी है, उनमें ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और एस्ट्राजेनेका के द्वारा सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ मिलकर तैयार कोविशील्ड तथाभारत बायोटेक का पूर्णत: स्वदेशी कोवैक्सीन शामिल है.

सरकार ने 200 रु. प्रति डोज की दर से 1.1 करोड़ ऑक्‍सफोर्ड वैक्‍सीन खरीदने का दिया ऑर्डर

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन: देश में कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान संभवत: 16 जनवरी से शुरू होगा

नई दिल्‍ली:

Covid-19 vaccine: देश में कोरोना के बचाव के लिए स्‍वीकृत ऑक्‍सफोर्ड वैक्‍सीन (Oxford vaccine) की कीमत 200 रुपये प्रति डोज(10 रुपये जीएसटी सहित 210) होगी. केंद्र सरकार ने सोमवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute) से ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके की 1.1 करोड़ खुराक खरीदने का सोमवार को आर्डर दिया. प्रत्येक टीके पर 200 रुपये और 10 रुपये GST को मिलाकर 210 रुपये की लागत आएगी. सार्वजनिक उपक्रम एचएलएल लाइफकेयर लिमिटेड ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से अतिरिक्त निदेशक प्रकाश कुमार सिंह के नाम सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के लिए आपूर्ति का ऑर्डर जारी किया. सूत्रों ने बताया कि कोविशील्ड टीके की खुराक 60 स्थानों पर खेप के जरिए पहुंचायी जाएगी, जहां से यह आगे वितरण के लिए भेजी जाएगी. स्वास्थ्य मंत्रालय कोरोना वायरस से बचाव के लिए एक और टीका ‘कोवैक्सीन' की खरीदारी के ऑर्डर पर भी हस्ताक्षर करने वाला है. कोवैक्सीन स्वदेशी टीका है जिसे भारत बायोटेक ने विकसित किया है.

बारी आने पर ही कोरोना वैक्‍सीन लगवाएं राजनेता, आगे निकलने की कोशिश न करें : PM मोदी 

सूत्रों ने NDTV को बताया कि कोविशील्‍ड की कुछ मिलियन डोज हर सप्‍ताह सप्‍लाई की जाएंगी. शुरुआती तौर पर 11 मिलियन (एक करोड़, 10 लाख) डोज की सप्‍लाई की जा सकती है. सरकार ने हाल ही में बताया था कि 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है.गौरतलब है कि DCGI ने जिन दो टीकों के सीमित आपात उपयोग की मंजूरी दी है, उनमें ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और एस्ट्राजेनेका के द्वारा सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ मिलकर तैयार कोविशील्ड तथा घरेलू दवा कंपनी भारत बायोटेकके द्वारा विकसित पूर्णत: स्वदेशी कोवैक्सीन शामिल है. 

भारत में जुलाई तक 30 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन देने की तैयारी

देश में 16 जनवरी से कोरोना टीकाकारण अभियान (COVID-19 vaccination campaign Start) शुरू होगा. केंद्र सरकार ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि 3 करोड़ हेल्थ वर्कर और फ्रंटलाइन वर्करों को टीका सबसे पहले टीका लगाया जाएगा, जो निशुल्क होगा. पहले चरण में जिन बाकी 27 करोड़ लोगों का टीकाकरण होना है, उनका टीकाकरण उसके बाद शुरू होगा. हालांकि हेल्थ वर्कर और फ्रंटलाइन वर्करों के अलावा अन्य को टीका मुफ्त मिलेगा या नहीं, इस पर अभी स्पष्टता नहीं है.

कोरोना ने श्वसन तंत्र की जगह मरीजों के मस्तिष्क को ज्यादा नुकसान पहुंचाया : अध्ययन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को कोरोना टीकाकरण की तैयारियों पर एक उच्च स्तरीय बैठक की थी..बैठक में कैबिनेट सेक्रेटरी, प्रधानमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी और स्वास्थ्य सचिव के अलावा अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे. इस बैठक में पीएम को बताया गया कि किस तरह से केंद्र सरकार राज्यों के साथ मिलकर जल्द शुरू होने वाले टीकाकरण अभियान की तैयारियां कर रही है. प्रधानमंत्री को बताया गया कि (Covin App) कोविन एप पर अब तक 79 लाख लाभार्थियों का रजिस्ट्रेशन कराया जा चुका है, जिन्हें शुरुआत में टीका दिया जाना है. बैठक में विस्तृत समीक्षा के बाद यह तय किया गया कि लोहड़ी, मकर संक्रांति पोंगल, माघ बिहू जैसे त्योहारों के मद्देनजर देश में टीकाकरण अभियान 16 जनवरी से शुरू किया जाएगा.


कोविड-19 टीकाकरण से जुड़े हर सवाल का जवाब

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com