स्लम बस्तियों में स्वरोजगार का मार्ग सुलभ कर रही है सेवा भारती

हम नौकरी मांगने की अपेक्षा नौकरी देने वाले बनें तभी देश में आर्थिक समानता व समरसता आएगी. सेवा भारती के कार्यकर्ता बेरोजगार युवाओं को स्वावलंबी बनने को प्रेरित करते हुए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का यह लक्ष्य लोगों को बता रहे हैं.

स्लम बस्तियों में स्वरोजगार का मार्ग सुलभ कर रही है सेवा भारती

RSS से जुड़े संगठन सेवा भारती लोगों को कर रही है जागरुक, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

हम नौकरी मांगने की अपेक्षा नौकरी देने वाले बनें तभी देश में आर्थिक समानता व समरसता आएगी. सेवा भारती के कार्यकर्ता बेरोजगार युवाओं को स्वावलंबी बनने को प्रेरित करते हुए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का यह लक्ष्य लोगों को बता रहे हैं. राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के सेवा के आयाम ‘सेवा भारती दिल्ली प्रान्त' दिल्ली के स्लम व जे.जे क्लस्टर के बेरोजगार युवाओं एवं महिलाओं को स्वरोजगार के लिए जागरूक कर रहा है. स्वयंसेवक कार्यकर्ता इन बस्तियों में घर-घर जाकर प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की जानकारियां दे रहें हैं. व्यक्ति स्वावलंबी बने, स्वयं नौकरी के लिए भटकने से अच्छा है वह इस योजना का लाभ लेकर स्वयं का उद्यम स्थापित करके, अपने साथ 4 और लोगों को रोजगार दे. उत्पादन कार्य ही देश के विकास में सहायक है. बेरोजगार इस योजना का लाभ लेकर उद्यम स्थापित करें. इससे अपना विकास तो होगा ही साथ ही समाज और देश का विकास भी होगा और मान सम्मान भी बढ़ेगा.  
 
सेवा भारती द्वारा दिल्ली की सेवा बस्तियों (जे.जे.क्लस्टर) में व्यापक रूप से किये जा रहे इस स्वरोजगार जागरण कार्य के दौरान लोगों ने बताया कि इससे पहले बैंक ने उन्हें कभी भी लोन नहीं दिया था और न ही बस्ती के लोगों की बैंक जाने की हिम्मत हुई. सेवा भारती ने प्रयोग के रूप में बस्तियों से फॉर्म इकठ्ठा करके पिछले साल 250 लोगों को लोन दिलवा कर उनका रोजगार शुरू करने के लिए कौशल विकास किया. वर्तमान में कोरोना महामारी के बावजूद सेवा भारती ने केशवपुरम और उत्तर पूर्व दिल्ली की स्लम बस्तियों में जाकर 101 फॉर्म इकठ्ठा किये हैं, जिसमें से 60 को स्वरोजगार के लिए लोन की मंजूरी मिल चुकी हैं और 35 लोगों को लोन का भुगतान भी हो गया है.
 
स्वरोजगार के इस अभियान के अंतर्गत स्लम बस्तियों में स्किल डेवलपमेंट के लिए 19 सितम्बर 2020 को ‘अर्वाचीन इंटरनेशनल स्कूल' दिलशाद गार्डन, दिल्ली में सायं 4 बजे, सेवा भारती के अध्यक्ष व कार्यकर्ता युनियन बैंक ऑफ़ इंडिया के अधिकारियों के साथ एक कार्यक्रम करने जा रहे हैं. जिसमें स्लम बस्तियों के विकास हेतु कुछ अन्य योजनाओं पर चर्चा होगी. बीज रूपी यह प्रयोग जल्द ही दिल्ली के बाद पूरे देश में चलाया जाएगा. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com