Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

अमिताभ कांत को तुरंत बर्ख़ास्त कर दिया जाए- शैबाल गुप्ता

अमिताभ कांत जेब में रूमाल रखते हैं. ग़रीब देश में ये सब स्टाइल में चल जाता है. उन्हें यह नहीं लगना चाहिए कि वे अपनी जेब में रूमाल की तरह यूपी और बिहार को भी रख सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमिताभ कांत को तुरंत बर्ख़ास्त कर दिया जाए- शैबाल गुप्ता

नीती आयोग के सीईओ अमिताभ कांत (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नीती आयोग के सीईओ के बयान पर बवाल जारी.
  2. शैबाल गुप्ता ने बर्खास्त करने की मांग की.
  3. राजद भी सीईओ को घेर चुकी है.
नई दिल्ली:

बिहार, यूपी और अन्य राज्यों के बारे में नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत के बयान को हमने अनदेखा कर दिया. हल्के में लिया. लेकिन इस तरह की संस्थाओं से जुड़े लोग काफी नाराज़ हैं. पटना स्थित एशियन डेवलपमेंट रिसर्च इंस्टिट्यूट के सदस्य सचिव शैबाल गुप्ता ने तो अमिताभ कांत को बर्ख़ास्त करने की मांग की है. उनका कहना है कि नीति आयोग के सीईओ की तरफ से आया इस तरह का बयान हैरान करने वाला है. अमिताभ कांत को इतिहास का कोई बोध नहीं है. उन्हें हिन्दी पट्टी के संत्रास यानी दुखों की भी कोई समझ नहीं है. बिहार और यूपी ने भारत के प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन में शानदार भागीदारी की थी.

बिहार को जितनी मदद मिल रही है, उससे कहीं और अधिक की आवश्यक्ता : कांत के बयान पर नीतीश कुमार


शैबाल गुप्ता का मानना है कि जब राज्य में बाबू कुंवर सिंह की 160 वीं जयंती मनाई जा रही हो, तब इस तरह के बयान देना, बिहार का अपमान करना है. उन्होंने देश की आर्थिक प्रगति में हिन्दी प्रदेशों के पूरे योगदान को ही नकार दिया है. शैबाल गुप्ता की संस्था बिहार सरकार को सहयोग भी करती है और राज्य की आर्थिक सामाजिक स्थितियों पर शोध भी करती है. फिर भी शैबाल गुप्ता ने अपनी बात दो टुक में कही है. ऐसा ही होना चाहिए.

राजद सांसद मनोज झा ने भी अमिताभ कांत के बयान पर प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है. मनोज झा ने प्रधानमंत्री के ज़रिए अमिताभ कांत को याद दिलाना चाहा है कि भारत सहयोगी संघवाद पर आधारित है न कि प्रतिस्पर्धी संघवाद पर. मतलब यह हुआ कि आप राज्यों के बीच भेड़ों की तरह प्रतियोगिता नहीं करा सकते. हर राज्य को अलग-अलग कारणों से लाभ मिलता है. भौगोलिक कारणों को आप बदल नहीं सकते हैं. 

बिहार-छत्तीसगढ़ ने नीति आयोग के सीईओ की टिप्पणी को खारिज किया

मनोज झा ने 1950 के दशक में Paul H Appleby की रिपोर्ट का ज़िक्र किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि बिहार, भारत का दूसरा सबसे बेहतर प्रशासित राज्य है. 1969 में D R GADGIL योजना आयोग के उपाध्यक्ष की हैसियत से बिहार जैसे राज्यों को अतिरिक्त मदद और समर्थन की ज़रूरत है. सांसद मनोज झा ने काफी रिसर्च के साथ यह पत्र लिखा है. प्रधानमंत्री को पढ़कर अच्छा लगेगा.

बिहार के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए जरूरी सहायता नहीं मिलती : नीतीश कुमार

टिप्पणियां

अमिताभ कांत जेब में रूमाल रखते हैं. ग़रीब देश में ये सब स्टाइल में चल जाता है. उन्हें यह नहीं लगना चाहिए कि वे अपनी जेब में रूमाल की तरह यूपी और बिहार को भी रख सकते हैं. ये स्टाइल के लिए भी नहीं चलेगा. 

VIDEO: डिजिटल पेमेंट के लिए इनामी योजना



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली हिंसा पर बॉलीवुड एक्ट्रेस सयानी गुप्ता का आया रिएक्शन, बोलीं- भाड़े के दंगाई...

Advertisement