NDTV Khabar

पीएम मोदी को मारने की 'साजिश' पर बोले शरद पवार- खत में कोई दम नहीं, सहानुभूति बटोरने के लिए हो रहा है इस्‍तेमाल

भीमा-कोरेगांव में हिंसा के पीछे नक्सलियों का हाथ होने पर एनसीपी नेता अध्‍यक्ष शरद पवार ने कहा कि जब एक-जैसी सोच वाले लोग एल्गार परिषद का आयोजन करने साथ आते हैं तो उन्हें नक्सल कहकर गिरफ्तार कर लिया जाता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी को मारने की 'साजिश' पर बोले शरद पवार- खत में कोई दम नहीं, सहानुभूति बटोरने के लिए हो रहा है इस्‍तेमाल

एनसीपी अध्‍यक्ष शरद पवार

खास बातें

  1. सभी जानते हैं कि भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा के पीछे किसका हाथ है
  2. जिनका इससे कोई संबंध ही नहीं था उन्हें गिरफ्तार किया गया
  3. यह शक्ति का दुरुपयोग है
पुणे: भीमा-कोरेगांव में हिंसा के पीछे नक्सलियों का हाथ होने पर एनसीपी नेता अध्‍यक्ष शरद पवार ने कहा कि जब एक-जैसी सोच वाले लोग एल्गार परिषद का आयोजन करने साथ आते हैं तो उन्हें नक्सल कहकर गिरफ्तार कर लिया जाता है.  उन्‍होने कहा कि सभी जानते हैं कि भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा के पीछे किसका हाथ है पर जिनका इससे कोई संबंध ही नहीं था उन्हें गिरफ्तार किया गया. यह शक्ति का दुरुपयोग है.

SPG ने पीएम को रोड शो न करने की सलाह दी, CPG-CAT के जवानों को किया गया अलर्ट 

भीमा कोरेगांव हिंसा के लिए कथित नक्‍सलियों से जुड़ाव के मामले में पुणे पुलिस द्वारा पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. उनके पास से पुलिस ने पीएम नरेंद्र मोदी को मारने की साजिश रचने का एक खत भी मिला है. इस पर शरद पावर ने कहा है कि वह धमकी-भरा खत था. मैंने एक रिटायर्ड पुलिस अफसर से बात की जिसने सीआईडी में काम किया था. उन्होंने कहा कि खत में कोई दम नहीं है. इस खत का इस्तेमाल लोगों की सहानुभूति बटोरने के लिए किया जा रहा है.

प्रधानमंत्री को निशाना बनाने की खबर परेशान करने वाली, षडयंत्रकर्ता होंगे बेनकाब : रविशंकर प्रसाद

नक्‍सलियों के साथ कथित ‘संबंधों’ के लिए गिरफ्तार किए गए एक व्यक्ति के घर से मिले एक पत्र में कहा गया है कि नक्‍सली ‘राजीव गांधी हत्याकांड जैसी घटना’ (को अंजाम देने) पर विचार कर रहे हैं और इसमें सुझाया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके ‘रोड शो’ के दौरान निशाना बनाया जाए. पुलिस ने यह जानकारी दी. पुलिस के अनुसार यह पत्र ‘आर’ नाम के किसी व्यक्ति ने किसी कॉमरेड प्रकाश को पत्र भेजा है. इसमें एम -4 रायफल खरीदने के लिए आठ करोड़ रुपये की और साथ ही घटना को अंजाम देने के लिए चार लाख राउंड गोला बारूद की जरूरत की बात की गयी है. पुलिस ने बताया कि पत्र रोना विल्सन के घर से बरामद किया गया जिन्हें हाल में मुंबई , नागपुर एवं दिल्ली से पांच दूसरे लोगों सहित गिरफ्तार किया गया था. इन लोगों को दिसंबर में यहां आयोजित किए गए ‘एलगार परिषद’ और उसके बाद जिले के भीमा - कोरेगांव में हुई हिंसा के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया. 

पीएम मोदी की जान को खतरा : M-4 राइफल और 4 लाख राउंड कारतूस, पढ़ें- क्या लिखा है उस कथित चिट्ठी में

पत्र में लिखा है, ‘हिंदू फासीवाद को हराना हमारा मूल एजेंडा रहा है और यह पार्टी की एक प्रमुख चिंता है. गोपनीय सेल के कई नेताओं और साथ ही अन्य संगठनों ने यह मुद्दा काफी मजबूती से उठाया है.’इसमें कहा गया, ‘मोदी की अगुवाई में हिंदू फासीवादी शासन आदिवासियों को रौंदते हुए तेजी से उनके जीवन में घुसता जा रहा है. बिहार और पश्चिम बंगाल में मिली बड़ी हार के बावजूद मोदी 15 राज्यों में भाजपा सरकार की स्थापना करने में सफल रहे हैं.’ पत्र में कहा गया, ‘अगर यह रफ्तार जारी रही तो इसका मतलब होगा कि पार्टी के लिए सभी मोर्चे पर काफी परेशानी आने वाली है.’ इसमें कहा गया, ‘कॉमरेड किशन और कुछ दूसरे वरिष्ठ कॉमरेड ने मोदी राज को खत्म करने के लिए कुछ मजबूत कदम सुझाए हैं. हम सभी राजीव गांधी हत्याकांड जैसी घटना पर विचार कर रहे हैं.’    

एक‌ ई-मेल और कई‌ सवाल

टिप्पणियां
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरूम्बुदूर में एक सार्वजनिक कार्यक्रम में महिला आत्मघाती हमलावर ने हत्या कर दी थी. पत्र में कहा गया, ‘यह आत्मघाती जैसा मालूम होता है और इसकी भी काफी संभावना है कि हम असफल हो जाएं, लेकिन हमें लगता है कि पार्टी का पोलित ब्यूरो/केंद्रीय समिति हमारे प्रस्ताव पर विचार करे.  उन्हें रोड शो में टारगेट करना एक असरदार रणनीति हो सकती है. हम सब को लगता है कि पार्टी का अस्तित्व किसी भी त्याग से ऊपर है.’ सरकारी अभियोजक उज्जवल पवार ने अदालत में बहस के दौरान पत्र का हवाला दिया था और इन लोगों को पुलिस हिरासत में भेजने की मांग की.

VIDEO: पीएम मोदी की हत्या की साजिश का पर्दाफाश !
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement