NDTV Khabar

कश्मीर मुद्दे को लेकर पाकिस्तान के यूएन जाने पर भड़के शशि थरूर, कहा- एक इंच जमीन भी नहीं देंगे

शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कहा कि पाकिस्तान का भारत के अंदरूनी मामलों में दखल देने का कोई अधिकार नहीं है. हम विपक्ष में हैं और देश के अंदर हम कश्मीर में मौजूद हालात को लेकर सरकार की आलोचना कर सकते हैं, लेकिन भारत के बाहर हम सब एक हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कश्मीर मुद्दे को लेकर पाकिस्तान के यूएन जाने पर भड़के शशि थरूर, कहा- एक इंच जमीन भी नहीं देंगे

पाकिस्तान पर बरसे कांग्रेस नेता शशि थरूर

नई दिल्ली:

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का भारत के अंदरूनी मामलों में दखल देने का कोई अधिकार नहीं है. हम विपक्ष में हैं और देश के अंदर हम कश्मीर में मौजूद हालात को लेकर सरकार की आलोचना कर सकते हैं, लेकिन भारत के बाहर हम सब एक हैं. हम पाकिस्तान को एक इंच जमीन भी नहीं देंगे. थरूर ने सोमवार को कहा कि कश्मीर का मुद्दा अगर यूनाइटेड नेशन जाता है तो देश की तमाम विपक्षी पार्टियां पीएम मोदी के साथ खड़ी रहेंगी. शशि थरूर (Shashi Tharoor) का यह बयान पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के जेनेवा के तीन दिवसीय दौरे पर जाने के बाद आया है. कुरैशी जेनेवा में कश्मीर की मौजूदा स्थिति को लेकर अपना भाषण देंगे. 

नजरबंद हुए पूर्व CM उमर अब्दुल्ला के समर्थन में आए कांग्रेस नेता शशि थरूर, Tweet कर कही यह बात


गौरतलब है कि शशि थरूर ने अमेरिका द्वारा कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थ बनने की पेशकश पर भी अपनी कड़ी प्रतिक्रिया दी थी. इस मसले पर कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भी अपनी राय ट्वीट करके रखी थी. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व राजनयिक शशि थरूर ने कहा था कि मुझे वाकई नहीं लगता है कि ट्रम्प को थोड़ा भी अंदाजा है कि वह क्या बात कर रहे हैं? या तो उन्हें किसी ने मामले की जानकारी नहीं दी या वह समझे नहीं कि मोदी क्या कह रहे थे या फिर भारत का तीसरे पक्ष की मध्यस्थता को लेकर क्या रुख है. विदेश मंत्रालय को इस मामले पर स्पष्टीकरण देना चाहिए कि भारत ने कभी भी ऐसी किसी मध्यस्थता को लेकर कोई बात नहीं की है.''

कश्मीर मुद्दे पर ट्रंप के बयान पर भड़के शशि थरूर, बोले- वह समझे नहीं कि मोदी क्या कह रहे थे या फिर...

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में ट्रम्प ने सोमवार को कहा था कि मोदी दो हफ्ते पहले उनके साथ थे और उन्होंने कश्मीर मामले पर मध्यस्थता की पेशकश की थी. ट्रम्प ने यह भी कहा कि मुझे लगता है कि भारत हल चाहता है और पाकिस्तान भी. यह मसला 70 साल से चल रहा है. मुझे इसमें मध्यस्थता करने पर खुशी होगी. 

टिप्पणियां

IAS टॉपर शाह फैसल ने इस्तीफे के एक दिन बाद लोगों से की यह अपील...

बता दें कि भारत के विदेश मंत्रालय ने ट्रम्प द्वारा इस संबंध में दावा किए जाने के कुछ ही देर में उसे सिरे से खारिज कर दिया और कहा था कि उसका रूख हमेशा से यही रहा है कि भारत-पाकिस्तान के बीच मुद्दे द्विपक्षीय तरीके से सुलझाए जाएंगे. ध्यान हो कि भारत-पाक रिश्ते पर ट्रंप ने ओवल ऑफिस में कहा था कि यदि मैं मदद कर सकता हूं, तो मैं एक मध्यस्थ होना पसंद करूंगा.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement